Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > एक राउण्ड में 14 टेबलों पर होगी मतगणना, डाकमत पत्रों से होगी शुरुआत

एक राउण्ड में 14 टेबलों पर होगी मतगणना, डाकमत पत्रों से होगी शुरुआत

कर्मचारियों को बताया कैसे गिनी जाती हैं वीवीपैट की पर्चियां

एक राउण्ड में 14 टेबलों पर होगी मतगणना, डाकमत पत्रों से होगी शुरुआत
X

ग्वालियर, न.सं.। एमएलबी महाविद्यालय में 10 नवम्बर को प्रात: 8 बजे डाक मतपत्रों की गिनती शुरू होगी। इसके आधा घंटे बाद ईवीएम के वोटों की गिनती शुरू की जाएगी। दोनों प्रकार के मतों की गिनती समानान्तर रूप से जारी रह रहेगी। केवल उन्हीं डाक मतपत्रों की गिनती होगी जो मतगणना शुरू होने से पहले अर्थात 10 नवम्बर को प्रात: 8 बजे से पूर्व प्राप्त हो जाएंगे।

जिले के तीनों विधानसभा क्षेत्रों में डाले गए मतों की गिनती के लिए तैनात किए गए अधिकारियों व कर्मचारियों को गुरुवार को भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंधन संस्थान में प्रथम चरण का प्रशिक्षण दिया गया। मतगणना के लिए तैनात अमले ने खासतौर पर ईवीएम में दर्ज मत गिनने की बारीकियां सीखीं। मतगणना अमले के साथ-साथ माइक्रो ऑब्जर्वर को भी प्रशिक्षित किया गया। वीवीपैट की पर्चियां गिनने व उनका महत्व भी मतगणना अमले को बताया गया। मतगणना व्यवस्था के प्रभारी एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी शिवम वर्मा भी प्रशिक्षण के दौरान मौजूद थे। प्रथम चरण के प्रशिक्षण में गणना पर्यवेक्षक व गणना सहायकों को इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन से मतगणना करने की बारीकियां सिखाई गईं। प्रथम चरण के प्रशिक्षण में लगभग 225 अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया गया। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए 75 गणना पर्यवेक्षक, 80 गणना सहायक व 75 माइक्रो ऑब्जर्वर प्रशिक्षित किए गए हैं। प्रशिक्षण में बताया गया कि हर गणना टेबल पर एक-एक गणना पर्यवेक्षक, गणना सहायक व माइक्रो ऑब्जर्वर तैनात रहेंगे। इस प्रकार एक टेबल तीन अधिकारी तैनात किए जाएंगे। गणना पर्यवेक्षक सीधे निर्वाचन प्रेक्षक को अपनी रिपोर्ट देंगे। जिले के हर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र की गिनती दो-दो कक्षों में होगी। हर कक्ष में सात-सात टेबल लगाई जाएंगी। इस प्रकार एक राउण्ड में 14 टेबलों पर मतगणना होगी। इसके अलावा हर विधानसभा क्षेत्र के एक कक्ष में डाक मतपत्रों की गिनती के लिए डाक मतपत्रों की संख्या के आधार पर अलग से टेबल लगाई जाएंगी। हर कक्ष में सहायक रिटर्निंग अधिकारी की टेबल अलग से लगेगी। प्रशिक्षण के दौरान रिटर्निंग अधिकारी प्रदीप तोमर, ग्वालियर पूर्व के रिटर्निंग अधिकारी एच.बी. शर्मा व विधानसभा क्षेत्र डबरा के रिटर्निंग अधिकारी प्रदीप कुमार शर्मा आदि उपस्थित थे।

प्रशिक्षण के दौरान कर्मचारियों को ये भी बताया

-मतगणना के लिए तैनात अधिकारियों व कर्मचारियों को हिदायत दी कि मतगणना के दौरान स्वयं कोरोना गाइड-लाइन का पालन करें।

-मतों की गिनती का काम पूरी तरह मुस्तैद होकर व सावधानी के साथ करें।

वीवीपैट की पर्चियां गिनने की बताई बारीकियां

प्रशिक्षक एसबी ओझा ने मतगणना अमले को बताया कि हर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में रेण्डम रूप से पांच मतदान केन्द्र के वीवीपैट की पर्चियों की गिनती अनिवार्यत: की जाएगी। पहले हर विधानसभा क्षेत्र में रेण्डम रूप से एक वीवीपैट की पर्चियों की गिनती कर ईवीएम से मिलान करने का प्रावधान था।

मोबाइल फोन की अनुमति नहीं

मतगणना अमले को यह भी बताया गया कि मतगणना दिवस को प्रात: 6 बजे अनिवार्यत: मतगणना परिसर में प्रवेश कर लें। मतगणना परिसर में मोबाइल फोन, तम्बाकू, बीड़ी, सिगरेट, माचिस व लाइटर इत्यादि पूर्णत: प्रतिबंधित है। इसलिए मतगणना कर्मी प्रवेश पत्र के अलावा कोई अन्य सामग्री लेकर कदापि न आएं।

Updated : 2021-10-12T16:45:57+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top