Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > ग्वालियर में गायत्री पाठ में शामिल हुए पुजारी, बाई, किराएदार सहित दस संक्रमित

ग्वालियर में गायत्री पाठ में शामिल हुए पुजारी, बाई, किराएदार सहित दस संक्रमित

ग्वालियर में गायत्री पाठ में शामिल हुए पुजारी, बाई, किराएदार सहित दस संक्रमित
X

ग्वालियर, न.सं.। जिले में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए प्रशासन द्वारा भले ही तमाम प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन लोगों की लापरवाही व अधिकारियों की अनदेखी के कारण कोरोना का खतरा बढ़ता जा रहा है। इसी का एक और उदाहरण फिर डबरा से ही सामने आया है। जहां तमाम दिशा-निर्देशों के बाद भी घर में पूजा-पाठ व सामूहिक भोज का आयोजन किया गया। जिसमें शामिल पुजारी, खाना बनाने वाली बाई, किराएदार सहित कुल दस लोगों को कोरोना का संक्रमण हुआ है। जबकि दिल्ली से लौटे एक सीआरपीएफ के जवान को भी संक्रमण हुआ है। जिसको लेकर अब प्रशासनिक अधिकरियों के हाथ-पैर फूल गए हैं, क्योंकि पूजा में करीब 100 से अधिक लोग एकत्रित हुए थे।

गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय की लैब में मंगलवार को 391 नमूनों की जांचें की गईं। जांच में 11 मरीज कोरोना संक्रमित निकले हैं। इसमें डबरा रामगढ़ से आठ, डबरा जवाहर गंज से एक और डबरा कृष्णापुरम से एक सहित मुरार दीन मोहम्मद निवासी सीआरपीएफ का जवान शामिल है। डबरा से सामने आए सभी संक्रमित पाराशर परिवार के यहां गायत्री पाठ के दौरान सम्पर्क में आए हैं। जिसमें पाठ करने वाले 93 वर्षीय पुजारी, खाना बनाने वाली 35 वर्षीय व 37 वर्षीय बाई, उनके ही मकान में किराए से रहने वाली 35 वर्षीय महिला, 21 वर्षीय पोता, 20 वर्षीय पोती, 66 वर्षीय साली, 52 वर्षीय छोटे भाई, 46 वर्षीय बेटा सहित उनके यहां पाठ में शामिल हुए 36 वर्षीय व्यक्ति को कोरोना निकला है। इन मरीजों के सामने आने के अब जिले में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 245 पहुंच गया है। जबकि दो की मृत्यु हो चुकी है।

गाय की मृत्यु पर कराया था पाठ

रामगढ़ निवासी 65 वर्षीय अधिवक्ता श्री पाराशर की कार दुर्घटना में 21 मई को गाय की मौत हो गई थी। इस पर अधिवक्ता पूजा-पाठ करने के लिए इलाहाबाद गए थे। इलाहाबाद से 22 मई को लौटने के बाद उन्होंने अपने घर में 24 से 30 मई तक सात दिन का गायत्री पाठ करवाया। पाठ के समापन के दिन घर में सामूहिक भोज रखा गया। जिसमें उनके परिवार सहित करीब 100 लोग एकत्रित हुए थे। इसके बाद जब उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगी तो वह कोरोना की जांच करने पहुंचे और सात जून को आई रिपोर्ट में उन्हें कोरोना निकला। इसके बाद उनके परिवार सहित उनके यहां पूजा-पाठ में शामिल हुए लोगों की सूची तैयार कराकर जांच कराई गई।

जबलपुर एक्सप्रसे से उतरा सीआरपीएफ का जवान

इधर दिल्ली में पदस्थ सीआरपीएफ के 37 वर्षीय जवान के परिवार में गमी हो गई थी। इसलिए वह छुट्टी लेकर 7 जून को जबलपुर एक्सपे्रस ट्रेन से ग्वालियर आया और गांव जाने से पहले अपनी जांच कराई। जवान का कहना है कि वह ख्याला पुलिस थाने में पदस्थ हैं। साथ ही ड्यूटी के दौरान वह करीब 60 लोगों के सम्पर्क में भी आया है।

चार परिवारों की लापरवाही से 96 हुए संक्रमित-

इधर कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों को देखा जाए तो जिले में कुल 245 संक्रमित सामने आए हैं। इसमें सबसे ज्यादा 49 कोरोना संक्रमित मरीज डबरा से सामने आए हैं। जिसमें से अधिकांश की कान्टेक्ट हिस्ट्री रोहिरा परिवार, गुप्ता परिवार और पाराशर परिवार से रही है। इसके अलावा बंशीपुरा-हाथीखाने में राठौर परिवार के सम्पर्क में आए कुल 47 संक्रमित हो चुके हैं। इसी के चलते कुल 96 मरीज सिर्फ चार परिवार की लापरवाही व अधिकारियों की अंदेखी के कारण हुए हैं।

359 संदिग्धों के लिए नमूने

जिला अस्पताल व जयारोग्य चिकित्सालय की कोल्ड ओपीडी सहित ग्रामीण क्षेत्रों में मंगलवार को कुल 359 संदिग्ध के नमूने लिए गए। इसके अलावा कोरोना नोडल अधिकारी डॉ. अमित रघुवंंशी, सहायक नोडल अधिकारी डॉ. हरेन्द्र सिंह सहित संदीप प्राधन, विपिन श्रीबास्तव, पुष्पेंद्र गोयल संध्या परिहार, अर्चना मेहरा अनूप शर्मा द्वारा बड़ा गांव एवं खुरेरी में 100 से अधिक मरीजों के नमूने लिए।

Updated : 2020-06-14T07:07:22+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top