Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > विश्व लीवर दिवस पर विशेष : लीवर को बीमार कर रही बदलती जीवन शैली

विश्व लीवर दिवस पर विशेष : लीवर को बीमार कर रही बदलती जीवन शैली

प्रतिवर्ष बढ़ रहे मरीज, 20 से 45 उम्र के सबसे ज्यादा बीमार

विश्व लीवर दिवस पर विशेष : लीवर को बीमार कर रही बदलती जीवन शैली
X

ग्वालियर, न.सं.। मानव शरीर में दिमाग के बाद सबसे महत्वपूर्ण अंग लिवर को माना जाता है। भोजन के पाचन से लेकर उससे पोषक तत्वों के अवशोषण और रक्त को साफ करते हुए उसमें रसायनों के संतुलन को बनाए रखने जैसा महत्वपूर्ण कार्य लिवर का ही होता है। यही कारण है कि स्वास्थ्य विशेषज्ञ सभी लोगों को रोजाना लिवर को स्वस्थ रखने वाले उपाय करते रहने की सलाह देते हैं, क्योकि इस अंग में होने वाली छोटी से भी समस्या का असर पूरे शरीर की सेहत को प्रभावित कर सकता है। लेकिन बदलती जीवन शैली और नशा विशेषकर शराब पीने की आदत लीवर को भी बीमार कर रहा है। इसमें सबसे ज्यादा संख्या युवाओं की है, जिन्हें लीवर संबंधित बीमारियां अपनी गिरफ्त में ले रही हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि प्रतिवर्ष लीवर संबंधित बीमारियों से पीडि़त मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है, इसमें 20 से 45 उम्र के मरीज सबसे ज्यादा है। इनमें मद्यपान करने वाले लोग ज्यादा हैं, जो चिंता का विषय है।

प्रतिवर्ष बढ़ रहे 30 प्रतिशत मरीज, युवा भी गिरफ्त में

गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय मेडिसिन विभाग के प्राध्यापक डॉ. अजय पाल का कहना है कि लीवर संबंधित बीमारियों से पीडि़त मरीजों की संख्या में प्रतिवर्ष 30 प्रतिशत तक वृद्धि हो रही है। इसमें सबसे ज्यादा फैटी लीवर व लिवर सिरोसिस बीमारियां युवाओं को गिरफ्त में ले रही हैं। उन्होंने बताया कि जंक फूड, रेस्टोरेंट का खाना, पैक्ड जूस, व्यायाम नहीं करना जैसे कारणों से फैटी लीवर के मरीज बढ़ रहे हैं। वहीं शराब, हडिय़ा, महुआ का अधिक सेवन लिवर सिरोसिस का मुख्य कारण है। इसी तरह हेपेटाइटिस वायरस भी लीवर में सूजन पैदा करता है और लीवर को खराब करने लगता है। डॉ. पाल का कहना है कि 20 फीसद मरीजों को पीलिया भी हो जाता है। इस वायरस के सामान्यतया पांच प्रकार अभी तक सामने आए हैं- ए, बी, सी, डी व ई। इसमें बी व सी लंबे समय बाद प्रकट होते हैं जो लिवर कैंसर के कारण बनते हैं। इस बीमारी से निजात पाने के लिए हर दिन व्यायाम करना जरूरी है।

गर्भावस्था के दौरान बीमारी होने की सम्भावना अधिक

गर्भावस्था में वायरल हेपेटाइटिस जैसे इन्फेक्शन से लेकर एक्यूट फैटी लीवर जैसी घातक एवं जानलेवा बीमारी होने की संभावना प्रबल रहती है। मेटाबॉलिज्म की अनियमितताओं के चलते डायटीशियन से परामर्श लेना जरूरी है। अजन्मे बच्चे में फीटल डिस्ट्रेस, प्लेसेंटा के माध्यम से हेपेटाइटिस-बी संक्रमण तथा आकस्मिक मृत्यु तक का जोखिम रहता है। इस लिए कुशल चिकित्सक द्वारा उचित परामर्श व देखरेख इस बीमारी से बचा जा सकता है।

डॉ. शिराली सुधा रूनवाल

प्रसूति एवं स्त्रीरोग विशेषज्ञ

गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय

लिवर कैंसर का भी रहता है खतरा: डॉ. चंदेल

फैटी लिवर में सिर्फ फैट जमा रहता है। आमतौर पर शुरुआत में इससे कोई परेशानी नहीं होती। परेशानी तब होती है, जब लिवर के फंक्शन को फैट प्रभावित करने लगता है। जयारोग्य के कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. संजय चंदेल ने बताया कि इसकी वजह से लिवर में सूजन होती है। जैसे-जैसे फैटी लिवर का स्टेज बढ़ता है, वैसे-वैसे लिवर में सूजन और सिकुडऩ जैसी समस्या होती है। यही लिवर सिरोसिस और लिवर कैंसर का भी कारण हो सकती हैं। इसलिए इन्हें पहचाना और इनका इलाज कराना जरूरी है।

विरासत में भी मिल सकती है लिवर से जुड़ी बीमारी

शरीर में लिवर की जिम्मेदारी भोजन को पचाने और इसे विषाक्त पदार्थों से दूर रखने की होती है। लिवर से जुड़ी समस्याएं आपको विरासत में मिल सकती हैं। यानी अगर आपके परिवार में किसी को लिवर से जुड़े रोग हैं तो आपको यह जेनेटिक तौर पर मिल सकती है। इसके अलावा कई अन्य कारणों से भी लिवर से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं, जैसे वायरस, शराब पीने और मोटापे के कारण आपका लिवर खराब हो सकता है। समय के साथ लिवर को नुकसान पहुंचाने वाली स्थितियों की वजह से लिवर फेल हो सकता है, जो घातक होता है। लेकिन समय पर इलाज मिल जाए तो लिवर को हुए नुकसान को ठीक किया जा सकता है।

डॉ. शिवम खरे

गेस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट, सर गंगा राम अस्पताल

ऐसे रख सकते हैं अपना लीवर स्वस्थ

विशेषज्ञों का कहना है कि लीवर को स्वस्थ रखने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां, सेब, नींबू और हरी चाय पीना चाहिए, आहार में हल्दी का उपयोग करना चाहिए। अल्कोहल, धूमपान और ड्रग्स का सेवन लीवर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता हैं। किसी भी दवा को शुरू करने से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर लेना चाहिए।

Updated : 19 April 2023 12:30 AM GMT
Tags:    
author-thhumb

स्वदेश डेस्क

वेब डेस्क


Next Story
Top