Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > BHOPAL NEWS: ओबीसी होल्ड अभ्यर्थी खा रहे दर - दर की ठोकरे उनकी व्यथा सुनने तैयार नहीं शासन शिक्षक वर्ग 3 में चयन के बावजूद विभाग नहीं दे रहा जॉइनिंग

BHOPAL NEWS: ओबीसी होल्ड अभ्यर्थी खा रहे दर - दर की ठोकरे उनकी व्यथा सुनने तैयार नहीं शासन शिक्षक वर्ग 3 में चयन के बावजूद विभाग नहीं दे रहा जॉइनिंग

BHOPAL NEWS: प्रदेश में बेरोजगारी और सरकार के प्रति युवाओं का विरोधाभास किसी से छिपा नहीं है।

BHOPAL NEWS: ओबीसी होल्ड अभ्यर्थी खा रहे दर - दर की ठोकरे उनकी व्यथा सुनने तैयार नहीं शासन शिक्षक वर्ग 3 में चयन के बावजूद विभाग नहीं दे रहा जॉइनिंग
X

BHOPAL NEWS: मध्यप्रदेश में बेरोजगारी और सरकार के प्रति युवाओं का विरोधाभास किसी से छिपा नहीं है। इस बात का क्रेडिट विपक्ष ने हमेशा से उठाने की कोशिश की है, किन्तु प्रदेश के युवाओं ने हर बार यह कहकर बात को टाल दिया कि हम सरकार के विरोधी नहीं है, हम अपने हक़ की आवाज़ उठा रहे है और अन्याय के खिलाफ लड़ रहे है

फिर चाहे वो लोक सेवा आयोग के अभ्यर्थी हो, विभिन्न संवर्गों के शिक्षक अभ्यर्थी हो, या फिर उपयंत्री अन्य समकक्ष पदो पर होल्ड किए गए अभ्यर्थी सभी लोग सिर्फ अपने होल्ड किए गए पदों मांग रखते आए हैं। किन्तु अभ्यर्थियों का गुस्सा तब चरम सीमा तक पहुँच जाता है जब विभाग के अधिकारी ज्ञापन और अभ्यावेदन का जवाब और उन बच्चो की हौसला अफजाई करने के बजाय यह कहकर बात खत्म कर देते हैं कि भर्ती खत्म भागो यहाँ से.. जिससे अभ्यर्थी निरुत्साह हो जाता है, और नेता मंत्री से न्याय की गुहार लगाने लगता है।

मध्यप्रदेश मे ओबीसी आरक्षण प्रदेश की राजनीति को सीधे तौर पर प्रभावित करने वाला मुद्दा है। कारण है प्रदेश मे आधी से ज्यादा आबादी अन्य पिछड़ा वर्ग समुदाय का होना। विपक्ष सदैव ओबीसी आरक्षण देने में विफल भाजपा सरकार को आरक्षण विरोधी और बरोजगारी के मुद्दे जिले छिंदवाड़ा की थी। वो बात अलग है कि सामान्य प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव ने आधी रात को एक प्रसिद्ध प्रिंट मीडिया संस्थान को प्रदेश के मुख्यमंत्री की घोषणा के विरोध में वक्तव्य दिया, जिससे प्रदेश के मुख्यमंत्री की क्षवि भी धूमिल हुई। यह तो फिर भी ठीक था, लोक शिक्षण संचालनालय मध्यप्रदेश इससे भी दो घर आगे निकला।

उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती 2018 के होल्ड अभ्यर्थी मनीष झा का कहना है, सामान्य प्रशासन विभाग का आदेश आने के बाद मैं और मेरे अन्य होल्ड साथी मांगलवार को लोक शिक्षण संचालनालय भोपाल पहुंचे थे। वहाँ हमने सामान्य प्रशासन विभाग का वो पत्र संचालनालय की अपर संचालक कामना आचार्य को बताया तो पहले तो उन्होंने बात टालते हुए कहा कि ये पत्र अभी हमें प्राप्त नहीं हुआ। फिर अभ्यर्थियो द्वारा आरक्षण से सम्बंधित जानकरी पूछे जाने पर मैडम भड़क उठी और अचानक बोलने लगी तुम्हे वो पद कभी नहीं मिलेंगे उन्हें हम सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को देंगे। अभ्यर्थी द्वारा जब यह बताया गया कि मेरे विषय में अनारक्षित वर्ग का अब कोई अभ्यर्थी शेष नहीं है तब मैडम ने बिगड़े अंदाज मे बोला, नहीं है तो हम कही से भी ढूंढकर लाएंगे।

Updated : 10 July 2024 12:12 PM GMT
author-thhumb

Anurag Dubey

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Top