Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > नौकरशाहों ने बना दिया स्वर्गवासी, अब कहता फिर रहा: मैं जिन्दा हूं

नौकरशाहों ने बना दिया स्वर्गवासी, अब कहता फिर रहा: मैं जिन्दा हूं

नौकरशाहों ने बना दिया स्वर्गवासी, अब कहता फिर रहा: मैं जिन्दा हूं
X

खुद को जिंदा साबित करने के लिए 3 साल से भटक रहा है शख्स, सरकारी कागजों में हो चुका है 'स्वर्गवासी'

प्रशासनिक संवाददाता भोपाल

प्रदेश में नौकरशाहों की लापरवाही के कारण एक जिन्दा इंसान को स्वर्गवासी बना दिया गया। अब यह इंसाल अपने आपको जिन्दा साबित करने के लिए पिछले तीन साल से सरकारी कार्यालयों के चक्कर काट रहा है, लेकिन अब तक वह अपने आप को जिन्दा साबित नहीं कर पाया है।

चलिए अब हम आपको इस घटना की पूरी कहानी बताते हैं। समस्याओं को लेकर शासकीय कार्यालयों के बाहर भटकते किसी व्यक्ति को देखा जाना आम बात है, लेकिन क्या ऐसे शख्स को आपने देखा जो शासकीय कार्यालय के बाहर अपने आप को जिंदा साबित करने के लिए रोज चक्कर लगा रहा हो, इतना ही नही खुद को जिंदा साबित करने के लिए प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री को ट्वीट कर चुका हो। जी हां मध्यप्रदेश के रतलाम में एक शख्स खुद को जिंदा साबित करने के लिए तीन साल से सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगा रहा है। मामला रतलाम के नेमीनगर का है, जहां एक युवक की समग्र सामाजिक सुरक्षा मिशन आईडी (ट्रिपल एसएम आईडी) में गड़बड़ी ने गलत अपडेट कर दिया। इसके बाद यह युवक पोर्टल पर 'स्वर्गवासी' बना घूम रहा है और तीन साल से नगर निगम के चक्कर लगा रहा है कि कोई उसे कागजों में जिंदा कर दे।

दरअसल, नेमीनगर में रहने वाले कृष्णकुमार सोनी अपनी ट्रिपल एसएम आईडी को अपडेट करवाने तीन साल पहले नगर निगम पहुंचे थे, लेकिन उन्हें क्या पता था कि वे शासकीय दस्तवेजो में उनकी मृत्यु दिनांक 24 दिसम्बर 2015 दर्ज हो चुकी है और वे ट्रिपल एसएम आईडी पोर्टल पर स्वर्गवासी हो गए है। नगर निगम के समग्र पोर्टल वालों ने उनकी आईडी को अपडेट तो नहीं किया, लेकिन उनका नाम काटकर नाम के आगे इंग्लिश में लेट यानी स्वर्गवासी जरूर लिख दिया। इसके बाद से ही वे अब तक स्वर्गवासी बने घूम रहे हैं और तीन साल से नगर निगम के चक्कर लगा रहे हैं कि कोई उन्हें कागजों में जिंदा कर दे। वे इस मामले की शिकायत आला अधिकारियों से लेकर मुख्यमंत्री कमलनाथ को ट्वीट करके भी कर चुके हैं, लेकिन अभी तक इसका कोई नतीजा नहीं निकला और फिर ऐसी गड़बड़ी हो भी क्यो न, अंधेर नगरी चौपट राजा की तजऱ् पर काम कर रही नगर निगम ने ट्रिपल एसएम आईडी के कार्य का प्रभार भी एक ऐसे लेखपाल कर्मचारी को दिया। जो खुद बयान कर रहे है, कि वे इस कार्य के बारे में कोई जानकारी नही रखते और उन्हें कम्प्यूटर का भी नॉलेज नही है।

इस मामले में नगर निगम के समग्र आईडी के प्रभारी जगदीश पांचाल का कहना है कि गलती भोपाल समग्र पोर्टल वालों की है और एनआईसी प्रबंधक भोपाल से ही पीडि़त का नाम जुड़ेगा। नाम जोडऩा उनके हाथ में नहीं है। नगर निगम के अधिकारी पीडि़त को एनआईसी भोपाल के नाम का एक दस्तावेज थमाकर ऑफिस-ऑफिस खेल रहे हैं और जिंदा कृष्ण कुमार सोनी अपने हाथ मे स्वर्गवासी होने के दस्तावेज को खुद गलत साबित करने के लिए शासकीय कार्यालयों के चक्कर लगा रहे हैं।

Updated : 2019-02-13T23:06:23+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top