Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > सरकार कर रही गौ सेवा कर लगाने की तैयारी, जानिए कैसे और कितना लगेगा

सरकार कर रही गौ सेवा कर लगाने की तैयारी, जानिए कैसे और कितना लगेगा

सरकार कर रही गौ सेवा कर लगाने की तैयारी, जानिए कैसे और कितना लगेगा
X

भोपाल। प्रदेश में गौ-संरक्षण एवं संवर्धन के लिए गो-केबिनेट बनाई गई है। जिसकी पहली बैठक रविवार सुबह 11 बजे भोपाल स्थित मंत्रालय में होगी। इसके बाद मुख़्यमंत्री अगर स्थित सालरिया जायेंगे। वे सलारिया स्थित गोअभ्यारण जाकर गौ-पूजन करेंगे। मुख्यमंत्री ने घोषणा की है की सालरिया गौ -अभ्यारण्य को आदर्श के रूप में विकसित किया जाएगा। सीएम ने ये घोषणा 22 नवम्बर गोपाष्टमी को होने वाले आयोजन की तैयारियों की समीक्षा के दौरान की।

गो-संरक्षण एवं संवर्धन के लिए गौ कैबिनेट के गठन के बाद सरकार गो-सेवा कर (काऊ सेस) लगाने पर भी विचार कर रही है।मुख्यमंत्री ने कहा की इससे गो-पालन के लिए पर्याप्त राशि सरकार को प्राप्त हो सकेगी तथा इस पावन कार्य में सभी की भागीदारी भी होगी। गोपाष्टमी के अवसर पर सालरिया गो-अभ्यारण्य में आयोजित होने वाले आयोजन में 14 प्रमुख गो-विशेषज्ञ शामिल होँगे।जिनके साथ मुख्यमंत्री संगोष्ठी कर प्रदेश में गो-संरक्षण एवं संवर्धन के संबंध में चर्चा करेंगे।

ये है विशेष -

  • गो कैबिनेट में गृह, वन, कृषि, ग्रामीण विकास और पशुपालन मंत्री को सदस्य बनाया गया।
  • गो सेवा कर पर कितना हो कैबिनेट में होगा विचार।
  • रजिस्ट्री, वाहन और शराब पर लग सकता है गो कर।
  • गौशालाओं के संचालन में सरकार का भार होगा कम।

देशी नस्ल को दिया जायेगा बढ़ावा -

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में गो-पालन के अंतर्गत देशी नस्ल को बढ़ावा दिया जाएगा। गो-काष्ठ लकड़ी का श्रेष्ठ विकल्प है, अत: इसका उत्पादन बढ़ाया जाएगा। साथ ही गाय के दूध से निर्मित विभिन्न सामग्रियों, गोबर एवं गो-मूत्र से बने उत्पादों को भी बढ़ावा दिया जाएगा। गो-अभ्यारण्य सालरिया में एक आधुनिक गो-अनुसंधान केन्द्र भी खोला जाएगा।

प्रदेश में 627 गो-शालाएं संचालित -

बता दें की प्रदेश में स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा 627 गो-शालाएं संचालित हैं, इनमें 1 लाख 66 हजार गो-वंश का पालन किया जा रहा है। प्रदेश में निराश्रित गो-वंश लगभग 8.5 लाख है। जिनकी देखरेख के लिए सरकार गोकर लगाने की तैयारी कर रही है।


Updated : 2020-11-21T14:38:06+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top