Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > बारिश के चलते नर्मदा, शिप्रा और ताप्ती में उफान, कोलार, कलियासोत डैम के गेट खोले

बारिश के चलते नर्मदा, शिप्रा और ताप्ती में उफान, कोलार, कलियासोत डैम के गेट खोले

बारिश के चलते नर्मदा, शिप्रा और ताप्ती में उफान, कोलार, कलियासोत डैम के गेट खोले
X

भोपाल। मप्र में लगातार बारिश के चलते प्रदेश में नदी-नाले उफान पर हैं और बांध भी छलकने लगे हैं। रविवार दिन में हुई तेज बारिश के बाद राजधानी भोपाल में कोलार डेम के 4 और कलियासोत डेम के 9 गेट खोल दिए गए हैं। वहीं, नर्मदा का जलस्तर लगातार बढ़ने के कारण खंडवा में इंदिरा सागर बांध के भी 12 गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है।

प्रदेश में हो रही लगातार बारिश के चलते नर्मदा, शिप्रा और ताप्ती नदियां पहले से ही उफनाई हुई हैं। राजघाट बांध, भदभदा डैम, ओंकारेश्वर बांध और तवा डैम के साथ ही प्रदेश में कई जगह बांधों के गेट खोलने पड़े हैं। रविवार सुबह खंडवा में इंदिरा सागर के भी 20 में से 12 गेट खोलना पड़े। 6 गेट 1 मीटर और 6 गेट आधा मीटर तक खोले गए हैं। इंदिरा सागर डैम का जलस्तर 257.86 है। नर्मदापुरम में तवा डैम के गेट खुलने और ऊपरी हिस्सों में बारिश की वजह से इंदिरा सागर डैम में लगातार पानी भर रहा है। जुलाई का निर्धारित जलस्तर बनाए रखने के लिए पानी छोड़ा जा रहा है। नेमावर में नर्मदा नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है।

भदभदा बांध के गेट खुले -

भोपाल में आज भदभदा बांध का तीसरा गेट भी खोल दिया गया। शनिवार को दो गेट खोले गए थे। बड़े तालाब का भी जलस्तर लगातार बढ़ रहा हे। कलियासोत में भी वॉटर लेवल बढ़ रहा है। दोपहर 12 बजे कलियासोत के 13 में से 9 गेट खोले गए। रविवार दोपहर में भोपाल के कोलार डैम के भी 4 गेट खोलने पड़े। क्वारी नदी का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है।

इधर, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में भी अब बादल टूटकर बरस रहे हैं। बेतवा नदी उफान पर है। शिवपुरी के मोहिनी सागर और मड़ीखेड़ा बांध के गेट खोलने से सिंध नदी में भी जलस्तर बढ़ गया है। सीहोर जिले में बारिश के कारण जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। जिले के नसरुल्लांगज और रेहटी में भारी बारिश से निचले इलाकों में पानी भर गया। नसरुल्लागंज में 24 घंटे में 4 इंच बरसात हो चुकी है। इससे निचले इलाकों में पानी भर गया। तहसील मुख्यालय का दो दर्जन से अधिक गांवों से संपर्क कट गया है। नंदगांव में अंबर नदी में बाढ़ आ जाने से भोपाल से सड़क संपर्क टूट गया है। नर्मदा नदी उफनाने से पानी नीलकंठ पातालेश्वर शंकर मंदिर की दीवार से लग गया। छीपानेर में नर्मदा नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। पांडागांव में सीप नदी उफान पर है। पांचौर में भी ब्रिज के ऊपर पानी है।

कहां, कितनी बारिश

भोपाल में रात भर रुक-रुक कर बारिश हुई। सुबह भी हल्की बूंदाबांदी हुई, लेकिन 10 बजे से तेज बारिश शुरू हो गई। 24 घंटे के दौरान बैतूल में 3 इंच, भोपाल में 2 इंच, नर्मदापुरम में 3 इंच, पचमढ़ी में 2 इंच, नौगांव में 2 इंच, खजुराहो में डेढ़ इंच और सतना में करीब 1 इंच बारिश हुई। सीधी में 1.5 और नरसिंहपुर में 2.5 इंच पानी गिरा।

Updated : 2022-08-07T20:16:42+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top