Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > भोपाल और इंदौर की सीमाओं को कड़ाई से सील करें : मुख्यमंत्री चौहान

भोपाल और इंदौर की सीमाओं को कड़ाई से सील करें : मुख्यमंत्री चौहान

सर्वे एवं टे‍स्टिंग का कार्य गहनता से किये जाने के निर्देश

भोपाल और इंदौर की सीमाओं को कड़ाई से सील करें : मुख्यमंत्री चौहान

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि भोपाल और इंदौर शहरों में कोरोना के अधिक प्रकरण मिले हैं। इसलिये इनकी सीमाओं को और कड़ाई से सील किया जाए तथा आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध हो। संक्रमण रोकने के लिए सर्वे कार्य तथा कोरोना टेस्टिंग का कार्य गहनता से किया जाए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना के संक्रमण को पूरी तरह से रोकना है तथा कोरोना मरीजों को ठीक करना है। इसके लिए भीलवाड़ा एवं कर्नाटक मॉडल तथा जहाँ भी अच्छे कार्य हुए हैं, उनकी जानकारी प्राप्त कर उन्हें प्रदेश में लागू किया जाए। अधिकारी अपना पूरा टेलेंट इस कार्य में झोंक दें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि भारत सरकार द्वारा कोरोना का प्रोटोकॉल एवं गाइड लाईन तैयार की गई है। इनका पूर्ण पालन किया जाए तथा इनकी जानकारी फील्ड स्टॉफ तक पहुँचाई जाए। जो व्यक्ति होम क्वॉरेन्टाईन में हैं, उन्हें ट्रेस करने के लिए फेस रिकॉग्निशन टेक्निक तथा सूचना प्रोद्योगिकी की अन्य टेक्निक का प्रयोग भी किया जाए।

जानकारी छुपाएं नहीं बल्कि बताएं

मुख्यमंत्री ने जनता से आग्रह किया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कोरोना संबंधी जानकारी छुपाएं नहीं बल्कि बताएं। कोरोना संक्रमित व्यक्ति यह बताएं कि वे गत दिनों किस-किस व्यक्ति से मिले थे। आपके घर, परिवार एवं आस-पास यदि कोई व्यक्ति विदेश से आया हो, तो उसकी जानकारी दें। यह भी जानकारी दें कि क्या कोई व्यक्ति इंदौर अथवा भोपाल से आया है।

लक्षण दिखने पर जाँच करवाएं

मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि सर्दी, खाँसी, बुखार आदि के लक्षण दिखाई देते हैं, तो स्थानीय अस्पताल में जाकर जाँच करवाएं। इसके लिए कॉल सेंटर 104 पर भी कॉल किया जा सकता है।

टेस्टिंग एवं चिकित्सा की पर्याप्त व्यवस्था

मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने बताया कि प्रदेश में कोरोना टेस्टिंग एवं उपचार की पर्याप्त व्यवस्था है। वर्तमान में हमारे पास 29 हजार टेस्टिंग किट उपलब्ध हैं तथा हमारी टेस्टिंग क्षमता 580 प्रतिदिन हो गई है। गत दिवस 500 सेम्पल लिए गए थे। प्रतिदिन 5 हजार पीपीई किट्स आ रही हैं। आगामी समय के लिए 50 हजार पीपीई किट्स का ऑर्डर दिया गया है। हमारे पास दो लाख हाईड्रोक्सीक्लोरोक्वीन गोलियां स्टॉक में है। एन-95 मास्क की संख्या 77 हजार तथा थ्री-लेयर मास्क 6 लाख हैं।

प्रतिदिन के सही-सही आँकड़े प्रस्तुत करें

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोरोना के संबंध में प्रतिदिन उन्हें सही-सही आँकड़े प्रस्तुत किए जाएं। साथ ही कोरोना मरीजों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए आगामी 30 अप्रैल तक की जाने वाली व्यवस्थाओं की प्रोजेक्शन रिपोर्ट भी उन्हें प्रस्तुत की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि मुख्य सचिव एवं पुलिस महानिदेशक प्रतिदिन नियमित रूप से कलेक्टरों एवं पुलिस अधीक्षकों से चर्चा कर कोरोना संबंधी सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें।

सभी कोरोना मरीज ठीक हों

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कोरोना मरीजों के इलाज की अच्छी से अच्छी व्यवस्था की जाए, जिससे सभी कोरोना मरीज ठीक हो जाएं। नए संक्रमित क्षेत्रों होशंगाबाद, इटारसी आदि का विशेष ध्यान रखें। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने बताया कि वर्तमान में हमारी कोरोना डैथ रेट 8 प्रतिशत है। सामान्य रोगों के इलाज के लिए प्रदेश में टेलीमेडिसीन की व्यवस्था भी की जा रही है, जिससे देशभर के 4 हजार डॉक्टर जुड़े हैं।

सुगमता से बैंकों से निकाल सकें राशि

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि हितग्राहियों को उनके खातों में डाली गई विभिन्न योजनाओं की राशि निकालने में कोई परेशानी न हो तथा बैंकों में भीड़ भी न लगे, इस बात को सुनिश्चित किया जाए। केन्द्र सरकार द्वारा विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत लगभग 2000 करोड़ रूपए की राशि तथा राज्य सरकार द्वारा लगभग 1000 करोड़ रूपए की राशि हितग्राहियों के खातों में डाली गई है।


Updated : 2020-04-09T12:18:30+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top