Home > Lead Story > Varanasi Suicide Case : मृतक के परिजनों ने अखिलेश यादव के दावों को बताया राजनीतिक, कहा - 1 लाख रुपए...

Varanasi Suicide Case : मृतक के परिजनों ने अखिलेश यादव के दावों को बताया राजनीतिक, कहा - 1 लाख रुपए...

Varanasi Suicide Case : मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि, MBA के बाद भी नौकरी नहीं मिलने के कारण युवक ने आत्महत्या की।

Varanasi Suicide Case : मृतक के परिजनों ने अखिलेश यादव के दावों को बताया राजनीतिक, कहा - 1 लाख रुपए...
X

Varanasi Suicide Case

Varanasi Suicide Case : उत्तरप्रदेश। वाराणसी के एक होटल में युवक की आत्महत्या पर जमकर राजनीति हो रही है। गोरखपुर के रहने वाले इस युवक ने वाराणसी के होटल में आत्महत्या कर ली थी। पति की मौत खबर मिलते ही पत्नी ने भी आत्महत्या कर ली। इसके बाद मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि, MBA के बाद भी नौकरी नहीं मिलने के कारण युवक ने आत्महत्या की। इस खबर को सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने शेयर करते हुए भाजपा पर निशाना साधा था। अब मृतक के परिवार वालों ने सभी दावों को राजनीतिक बताया है। उन्होंने कहा कि, उनका बेटा साल में एक लाख रुपए से अधिक कमाता था।

अखिलेश यादव ने एक्स पर पोस्ट किया था कि, 'नौकरी छूटने और फिर न लग पाने के दबाव में पति की आत्महत्या की सूचना मिलने पर पत्नी द्वारा भी आत्महत्या करने का दुःखद समाचार मिला। भाजपा सरकार की नाकामी का इससे बड़ा कोई और हलफ़नामा चाहिए क्या। भाजपा को सिर्फ़ सत्ता की राजनीति से मतलब है, जनता के दुख-दर्द, बेरोज़गारी या महंगाई से नहीं। भाजपा राज में हताश जनता से विनम्र आग्रह है कि ऐसा कोई भी क़दम न उठाएं क्योंकि आत्महत्या कोई समाधान नहीं है, समाधान है भाजपा सरकार का बदलना।'

परिजनों ने क्या कहा :

27 वर्षीय हरीश बगेट और उनकी पत्नी संचिता की आत्महत्या पर सपा प्रमुख के दावों को नकारते हुए परिजनों ने कहा कि, यह सब अखिलेश यादव का प्योर पॉलिटिक्स है। इसका दूर - दूर तक हमसे कोई लेना देना नहीं है। वे मुंबई में नौकरी कर रहे थे। मैं उन्हें यहां लेकर आया था क्योंकि यहां हम अकेले हैं। मैंने उन्हें यहीं कुछ काम काज करने की सलाह दी थी। वे अपनी पत्नी से बोलकर गए थे कि, वे पटना जा रहे हैं। रेलवे स्टेशन पर उनकी पत्नी ने उन्हें छोड़ा और 5 तारीख को उन्होंने बताया कि, वे पटना पहुँच गए हैं।

इसके बाद सुबह उनका मेसेज आया कि, रात में मैं सो गया था इसलिए बात नहीं हो पाई। अब 6 तारीख को दोपहर हरीश ने अपनी बहन को फोन किया कि, मैं पटना आ रहा हूँ। उनकी बहन ने जब संचिता को फोन करके उनके बारे में पूछा तो सभी चौंक गए। क्योंकि, हरीश के मुताबिक वे पटना में ही थे।

मोबाइल का लोकेशन ट्रेस करने पर उनकी लोकेशन पता चली। कैंट थाने पर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई। इसके बाद सारनाथ थाने से फ़ोन आया और बताया गया कि, आपके दामाद ने सुसाइड कर लिया है। जैसे ही यह बात संचिता ने सुनी उन्होंने भी छत से कूदकर आत्महत्या कर ली।

बता दें कि, मीडिया रिपोर्ट्स में सामने आया था कि, हरीश बगेट बेरोजगार था इसलिए वो डिप्रेशन में चला गया था। इसके अलावा उसे नशे की भी लत थी। हरीश जिस रूम में स्टे कर रहा था वहां से पुलिस को गांजा और सिगरेट भी बरामद हुई है। अब पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Updated : 9 July 2024 8:42 AM GMT
Tags:    
author-thhumb

Gurjeet Kaur

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Top