Top
Home > Lead Story > महाराष्ट्र मुख्यमंत्री ठाकरे के संबोधन में झलकी नेतृत्व की कमी, बिगड़ते हालातों पर मांगी जनता से राय

महाराष्ट्र मुख्यमंत्री ठाकरे के संबोधन में झलकी नेतृत्व की कमी, बिगड़ते हालातों पर मांगी जनता से राय

महाराष्ट्र मुख्यमंत्री ठाकरे के संबोधन में झलकी नेतृत्व की कमी, बिगड़ते हालातों पर मांगी जनता से राय
X

नईदिल्ली। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण की वजह से बिगड़ते हालातों पर नियंत्रण पाने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए जनता को संबोधित किया। इस दौरान उनके उद्बोधन में नेतृत्व की कमी नजर आई। उन्होंने राज्य में अनियंत्रित होते कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए जनता से ही राय मांगी। उन्होंने कहा की वैक्सीनेशन के बावजूद राज्य में संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। यदि हालात नियंत्रित नहीं हुए तो लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में जिस तरीके से कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है, उसे देखते हुए वे विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे। लॉकडाउन कोई स्थाई समाधान नहीं है, राज्य में टीकाकरण के बाद भी संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। उन्होंने कहा की मैं आज लॉकडाउन नहीं लगा रहा हूं लेकिन इसकी ओर संकेत कर रहा हूं। यदि अगले दो-तीन दिन में स्थिति नहीं सुधरी तो कठोर कदम उठाने पड़ेंगे।'

ये है मुख्य बिंदु -

  • संक्रमितों की संख्या इसी तरह बढ़ी तो अस्पतालों में 15 दिनों में अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगेंगे।
  • राज्य की 500 लैब में प्रतिदिन 1 लाख 82 हजार जांच हो रही है।
  • राज्य सरकार का लक्ष्य 3 लाख जाँच है।
  • कोरोना के लिए बेड, आक्सीजन, वेंटिलेटर की कमी नहीं पडऩे दी जाएगी।
  • यदि लॉकडाउन का पर्याय नहीं मिला तो निश्चित रुप से राज्य में लॉकडाउन लगाया जाएगा।
  • राज्य में एक दिन में 3 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। इसे बढ़ाकर 7 लाख करने का लक्ष्य।




Updated : 2 April 2021 5:15 PM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top