Top
Home > Lead Story > नगरोटा एनकाउंटर में मारे गए चार आतंकवादियों को लेकर सुरक्षा बलों ने किया बड़ा खुलासा

नगरोटा एनकाउंटर में मारे गए चार आतंकवादियों को लेकर सुरक्षा बलों ने किया बड़ा खुलासा

नगरोटा एनकाउंटर में मारे गए चार आतंकवादियों को लेकर सुरक्षा बलों ने किया बड़ा खुलासा
X

नई दिल्ली। जम्मू के नगरोटा में गुरुवार को एनआउंटर में मारे गये जैश-ए-मोहम्मद के चार खूंखार आतंकवादियों के बारे में कई खुफिया जानकारी सुरक्षा बलों के हाथ लगी है। 19 नवंबर के नगरोटा मुठभेड़ चार आतंकवादियों को मार गिराया गया था। इस मामले की विस्तृत जांच से इस बात का खुलासा हुआ है कि इसमें 2016 के पठानकोट हवाई हमले के मुख्य आरोपी जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) के ऑपरेशनल कमांडर कासिम जान भी शामिल था। कासमि भारत में जैश आतंकवादियों के मुख्य लॉन्च कमांडरों में से एक है और पूरे दक्षिण कश्मीर में अपने अंडरग्राउंड लड़ाकों के साथ उसके संबंध हैं। वह संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकी मुफ्ती रऊफ असगर को सीधे रिपोर्ट करता है।

बता दें कि इन आतंकवादियों को कमांडो ट्रेनिंग दी गयी थी. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को खबर लगी है अफगानिस्तान से अमेरिकी सेनाओं की वापसी और तालिबान के पुनरुत्थान के साथ जैश जम्मू-कश्मीर सीमा पर हाइपरएक्टिव हो गया है। 14 के करीब विशेष रूप से प्रशिक्षित आतंकवादी गुजरांवाला से भारत में घुसपैठ करने की फिराक में हैं।

एक अन्य सुरक्षा अधिकारी ने कहा, ''करीब 200 आतंकवादी भारत में घुसपैठ करने के लिए नियंत्रण रेखा (एलओसी) के लॉन्च पैड पर इंतजार कर रहे हैं। हम अल-बद्र समूह के पुनरुत्थान के साथ-साथ एक और आतंकी मोर्चा लश्कर-ए-मुस्तफा को एक्टिव होता देख रहे हैं, जिसका प्रमुख हिदायतुल्ला मलिक है। दूसरा पाकिस्तानी आधारित लश्कर-ए-तैयबा (लश्कर) समूह है, जो खैबर-पख्तूनख्वा के जांगल-मांगल कैंप में 23 आतंकवादियों को प्रशिक्षण दे रहा है।"

मिली जानकारियों से पता चलता है कि चार जैश हमलावरों को कमांडो युद्ध के लिए प्रशिक्षित किया गया था। वे शकरगाह में साम्बा सीमा पर जैश की शिविर से लगभग 30 किमी तक पैदल चले। इसके बाद वे जटवाल स्थित पिकअप प्वाइंट तक पहुंचे। यह इलाका सांबा से कठुआ तक छह किलोमीटर का है। इसका मतलब यह है कि हमलावर अंधेरी रात में पिक-अप प्वाइंट तक पहुंचे और फिर जम्मू-कश्मीर की ओर चले गए।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यह अनुमान है कि आतंकवादी विभिन्न मार्गों से ढाई से तीन घंटे पैदल चलकर यह दूरी तय की। उन्होंने कहा, "अंतरराष्ट्रीय सीमा से पिक-अप प्वाइंट लगभग 8.7 किमी की हवाई दूरी पर है और जैश का शकरगढ़ शिविर जाटवाल से 30 किमी दूर है। संभावित घुसपैठ मार्ग सांबा सेक्टर में मावा गांव के माध्यम से था, जो रामगढ़ और हीरानगर सेक्टर के बीच है। नानाथ नाले के पास कई कच्चे ट्रैक हैं, जो पिक-अप प्लाइंट से अंतर्राष्ट्रीय सीमा तक पहुंचते हैं।'' वे रात में 2.30 से 3 बजे के बीच एक ट्रक (JK01AL 1055) पर सवार हुए थे और 3.44 बजे जम्मू की ओर सरोर टोल प्लाजा को पार करते हुए देखे गए थे। इसके बाद ट्रक नरवाल बाइपास होते हुए कश्मीर की तरफ बढ़ा। लगभग 4.45 बजे सुरक्षा बलों ने ट्रक को बन टोल प्लाजा के पास पकड़ा।

Updated : 2020-11-22T17:38:04+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top