Top
Home > Lead Story > आज भारत ग्लोबल इनोवेशन रैंकिंग में दुनिया के टॉप 50 देशों में शामिल : प्रधानमंत्री

आज भारत ग्लोबल इनोवेशन रैंकिंग में दुनिया के टॉप 50 देशों में शामिल : प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री ने नेशनल मेट्रोलॉजी कॉन्क्लेव का उद्घाटन किया

आज भारत ग्लोबल इनोवेशन रैंकिंग में दुनिया के टॉप 50 देशों में शामिल : प्रधानमंत्री
X

नईदिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से नेशनल मेट्रोलॉजी कॉन्क्लेव का उद्घाटन किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा की सीएसआईआर के वैज्ञानिक देश के ज्यादा से ज्यादा छात्रों के साथ संवाद करें , कोरोना काल के अपने अनुभवों को और इस शोध क्षेत्र में किये गए कामों को नई पीढ़ी से साझा करें। इससे आने वाले कल में आपको युवा वैज्ञानिकों की नई पीढ़ी तैयार करने में बड़ी मदद मिलेगी।

बेंचमार्कस को घड़ने की दिशा में आगे बढ़ना -

हमारे देश में सर्विसेज की क्वालिटी हो, चाहे सरकारी सेक्टर हो में या प्राइवेट।प्रोटक्ट्स की क्वालिटी हो, चाहे सरकारी सेक्टर में हो या प्राइवेट।हमारे क्वालिटी स्टैंडर्ड ये तय करेंगे कि दुनिया में भारत और भारत के प्रोडक्ट्स की ताकत कितनी बढ़े।देश 2022 में अपनी स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे कर रहा है, 2047 में हमारी आजादी के 100 वर्ष पूर्ण होंगे।हमें आत्मनिर्भर भारत के नए संकल्पों को ध्यान में रखते हुए, नए मानकों, नए पैमानों, नई स्टैंडर्ड्स और न्यू बेंचमार्कस को घड़ने की दिशा में आगे बढ़ना ही है।

भारत पर्यावरण में नेतृत्व करने की दिशा में बढ़ा -

आज भारत दुनिया के उन देशों में है जिनके पास अपने नेविगेशन सिस्टम है।आज इसी ओर एक और कदम बढ़ा है। आज जिस भारतीय निर्देशक का लोकार्पण किया गया है।ये हमारे उद्योग जगत को क्वालिटी प्रोडक्ट्स बनाने के लिए प्रोत्साहित करेगा।आज का भारत पर्यावरण की दिशा में दुनिया का नेतृत्व करने की दिशा में बढ़ा रहा है।लेकिन हवा कि गुणवत्ता को मापने की तकनीक से लेकर टूल्स तक हम दूसरों पर निर्भर रहे हैं।

आज इसमें भी आत्मनिर्भरता के लिए हमने बड़ा कदम उठाया है। आज भारत ग्लोबल इनोवेशन रैंकिंग में दुनिया के टॉप 50 देशों में पहुंच गया है। देश में आज बेसिक रिसर्च पर भी जोर दिया जा रहा है।आज भारत में इंडस्ट्री और इंस्टिट्यूशन के बीच सहयोग को मजबूत किया जा रहा है। दुनिया की बड़ी-बड़ी कंपनियां भारत में अपने रिसर्च सेंटर औऱ फैसिलिटीज स्थापित कर रही हैं।बीते वर्षों में इन फैसिलिटीज की संख्या भी बढ़ी है।


Updated : 2021-01-04T14:23:15+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top