Top
Home > Lead Story > मिशन मोड में काम जरूरी, वरना गवा देंगे कोरोना के खिलाफ 15 महीने की उपलब्धि : प्रधानमंत्री

मिशन मोड में काम जरूरी, वरना गवा देंगे कोरोना के खिलाफ 15 महीने की उपलब्धि : प्रधानमंत्री

महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और पंजाब में केंद्रीय टीम भेजने के निर्देश

मिशन मोड में काम जरूरी, वरना गवा देंगे कोरोना के खिलाफ 15 महीने की उपलब्धि : प्रधानमंत्री
X

नईदिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में कोविड-19 महामारी की स्थिति और वैक्सीनेशन कार्यक्रम को लेकर रविवार को एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। इस दौरान उन्होंने कोरोना उचित व्यवहार के पालन के लिए जन जागरूकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि राज्यों और जिलों को मिशन मोड में काम करना होगा वरना देश पंद्रह माह में कोविड के खिलाफ हासिल की गई उपलब्धि गवा देगा।

प्रधानमंत्री के समक्ष विस्तृत प्रस्तुति दी गई। इसमें इस बात का उल्लेख किया गया कि केवल 10 राज्यों से 91 प्रतिशत कोरोना संक्रमण और मौतों के मामले दर्ज किए जा रहे हैं। इस संदर्भ में महाराष्ट्र, पंजाब और छत्तीसगढ़ की स्थिति बेहद गंभीर है। प्रधानमंत्री को बताया गया कि कोरोना के मामलों में एकदम से वृद्धि का मुख्य कारण कोविड उचित व्यवहार के पालन में कमी आना है। इसमें इस बात का भी जिक्र किया गया कि कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए इसके विकृत स्वरूप पर दोष मढ़ना अभी सही नहीं होगा।

प्रधानमंत्री ने इस दौरान कोविड महामारी के बेहतर प्रबंधन के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम चलाने के निर्देश दिए उन्होंने कहा कि 'जनभागीदारी और जन आंदोलन' से ही इसका बेहतर प्रबंधन संभव है। प्रधानमंत्री ने जांच, खोज (ट्रेसिंग), उपचार, कोविड उचित व्यवहार और वैक्सीनेशन इन 5 बिंदुओं वाली रणनीति पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इनके प्रति गंभीरता और प्रतिबद्धता महामारी के नियंत्रण में कारगर साबित होगी।

विशेष अभियान का होगा शुभारंभ -

कोविड उचित व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए 6 अप्रैल से 14 अप्रैल के बीच 1 सप्ताह का विशेष अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान मास्क के उपयोग, व्यक्तिगत स्वच्छता, सार्वजनिक स्थलों के सैनिटाइजेशन और स्वास्थ्य सुविधाओं के ऊपर विशेष जोर दिया जाएगा।

उपचार सुविधाएं बधाई जाएं -

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 उपचार संबंधी सुविधाओं को उपलब्ध कराने के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं को तेजी से बढ़ाने और बेहतर करने की जरूरत पर बल दिया। इसमें ऑक्सीजन की उपलब्धता, वेंटिलेटर और अन्य लॉजिस्टिक सुविधाएं शामिल है। साथ ही कोरोना से होने वाली मौतों को रोकने के लिए प्रबंधन से जुड़े हुए प्रोटोकॉल के पालन को सुनिश्चित किए जाने पर विशेष जोर दिया।

केंद्र भेजेगा टीम -

उन्होंने महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और पंजाब में कोरोना के मामलों की बढ़ती संख्या और मौतों को दृष्टिगत रखते हुए स्वास्थ्य विशेषज्ञ और चिकित्सकों की केंद्रीय टीम भेजने के भी निर्देश दिए हैं। प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों और जिलों से आह्वान किया कि वह अपने यहां कोरोना के मामलों में बड़ा इजाफा पाने पर व्यापक प्रतिबंध लगाएं।

मिशन मोड पर हो काम -

प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया कि राज्य और जिलों में जहां कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं वहां मिशन मोड पर काम करने की जरूरत है ताकि पिछले 15 महीनों में बीमारी के खिलाफ हासिल की गई उपलब्धि 'यूं ही ना गवां' दी जाए।


Updated : 2021-04-04T19:30:43+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top