Latest News
Home > Lead Story > ज्ञानवापी विवाद : मुलायम सिंह ने 2004 में रुकवाई थी श्रृंगार गौरी की पूजा, पहले प्रतिदिन थी दर्शन की अनुमति

ज्ञानवापी विवाद : मुलायम सिंह ने 2004 में रुकवाई थी श्रृंगार गौरी की पूजा, पहले प्रतिदिन थी दर्शन की अनुमति

ज्ञानवापी विवाद : मुलायम सिंह ने 2004 में रुकवाई थी श्रृंगार गौरी की पूजा, पहले प्रतिदिन थी दर्शन की अनुमति
X

वेबडेस्क। वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में स्थित श्रृंगार गौरी माता मंदिर को लेकर भाजपा प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। उन्होंने कहा की विवादित परिसर में पहले माता श्रृंगार गौरी का नियमित पूजन होता था। जिसे मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमंत्री रहते हुए बंद करवा दिया था।

बता दें की वर्तमान में ज्ञानवापी मस्जिद में चल रहा सर्वे और विवाद माता श्रृंगार गौरी से जुड़ा हुआ है, जो कि परिसर के परिसर में स्थित है। अप्रैल 2021 में दिल्ली की रहने वाली राखी सिंह ने चार अन्य महिलाओं के साथ अदालत में याचिका दायर कर मंदिर परिसर में मां श्रृंगार गौरी की मूर्तियों की दैनिक पूजा की अनुमति मांगी थी। जिसके बाद कोर्ट के निर्देश पर सर्वे कार्य हो रहा है।

मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप -

इसी बीच भाजपा प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने दावा किया है की साल 1996 में साल भर ज्ञानवापी परिसर में स्थित माता श्रृंगार गौरी की पूजा की जाती थी। तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह ने हिन्दुओं को पूजा करने से रोक दिया था। उन्होंने सपा संरक्षक मुलायम सिंह पर तुष्टिकरण का आरोप लगाते हुए कहा की उन्होंने साल 2004 में पूजा पर प्रतिबंध लगा दिया था। मुलायम सरकार का ये आदेश Worship Act 1991 का उल्लंघन है। जिसे उन्होंने मुस्लिम वोट बैंक को लुभाने के लिए दिया था। उन्होंने कहा कि 1992 में बाबरी भवन को तोड़े जाने के बाद भी इस मंदिर में पूजा-अर्चना जारी थी।

उन्होंने आगे कहा की, "आप मुझे विश्व की किसी एक मस्जिद का नाम बता दीजिए भारत के अलावा, जहाँ पर बूत (मूर्ति) हो, शंख हो, चक्र हो, जहाँ पर मंदिर हो। आपका मजहब इस्लाम बार-बार कहता है कि किसी अन्य धर्म के विवादित स्थल पर मस्जिद नहीं कायम की जा सकती। यहाँ तो मंदिर को तोड़ा गया, यह इतिहास है।"

सुरक्षा के बीच हुआ सर्वे -

बता दें की ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में महिलाओं द्वारा पूजा की अनुमति देने के लिए लगाई गई याचिका पर कोर्ट ने सर्वे का आदेश दिया है। पहले सर्वे और वीडियोग्राफी का मुस्लिम समुदाय द्वारा विरोध किए जाने के बाद सुनवाई कर दोबारा हर हाल में पूरी मस्जिद का सर्वे करने का निर्देश दिया। जिसके तहत आज परिसर के चार तहखानों की वीडियोग्राफी और सर्वे हुआ। किसी भी प्रकार विरोध या विवाद की स्थिति ना बने इसके लिए पुलिस ने एक किलोमीटर के दायरे में बैरिकेडिंग कर आने -जाने पर रोक लगा दी थी।



Updated : 2022-05-15T21:52:47+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top