Top
Home > Lead Story > कानपुर के कार्डियोलॉजी अस्पताल में आगजनी, 150 मरीजों को किया रेस्क्यू, 2 की मौत

कानपुर के कार्डियोलॉजी अस्पताल में आगजनी, 150 मरीजों को किया रेस्क्यू, 2 की मौत

कानपुर के कार्डियोलॉजी अस्पताल में आगजनी, 150 मरीजों को किया रेस्क्यू, 2 की मौत
X

कानपुर। कानपुर परिक्षेत्र के सबसे बड़े हृदय रोग संस्थान (कार्डियोलॉजी) अस्पताल में आज सुबह अचानक से पहली मंजिल पर आग लग गई। आग देख वार्ड में भर्ती मरीजों में चीख पुकार मच गई। आग की जानकारी पर अस्पताल स्टॉफ में हड़कंप मच गया और सभी मरीजों को वार्ड से लेकर बाहर भागने लगे। सूचना पर दमकल की कई टीमें पहुंचकर कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया और अपनी जान को जोखिम में डाल दमकल कर्मियों ने करीब डेढ़ सौ मरीजों की जान बचाई। हादसे को नियंत्रित करने के ​लिए पुलिस कमिश्नर खुद मानिटिरिंग करते रहें और बताया कि किसी प्रकार की जन हानि नहीं हुई है।

आग लगी देख अस्पताल प्रशासन ने सक्रियता दिखाते हुए भर्ती मरीजों को बाहर निकालना शुरू किया। मौके पर पहुंची दमकल की कई टीमों ने एक तरफ जहां आग को बुझाने के लिए पानी की बौछारें शुरु की तो वहीं लंबी सीढ़ियों के जरिये जान जोखिम में डालकर मरीजों को बाहर निकालने का प्रयास शुरु कर दिया। कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया और करीब डेढ़ सौ मरीजों को सुरक्षित बाहर निकाला गया। कानपुर परिक्षेत्र के सबसे बड़े अस्पताल में आग लगने की खबर पर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण खुद मौके पर फौरन पहुंचे और दिशा निर्देश देते रहें। कमिश्नर ने बताया कि सबसे पहले ऊपर की मंजिल में फंसे 140 मरीजों को लंबी सीढ़ियों के जरिये खिड़कियों से सुरक्षित निकाला गया। नौ मरीज ऐसे रहे जो आईसीयू में थे उन मरीजों को किसी तरह से दूसरी जगह आईसीयू में शिफ्ट किया गया है। आग पर काबू पा लिया गया है अब पूरे अस्पताल को स्कैन किया जा रहा है। आग कैसे लगी और अस्पताल में आग सेफ्टी के क्या प्रबंध है, इन सभी बिन्दुओं की जांच की जा रही है।

रविवार के दिन होने से नहीं लगी ओपीडी

हृदय रोग संस्थान में रोजाना ओपीडी में इतने अधिक मरीज आते हैं कि कानपुर परिक्षेत्र के शायद ही किसी अस्पताल में आते हों। ओपीडी का नजारा रोजाना किसी मेले से कम नहीं रहता और मरीज अपने नंबर के लिए सुबह से ही लाइन लगा लेते हैं। लेकिन र​विवार होने के चलते आज ओपीडी नहीं रही इससे मरीजों व तीमारदारों की भीड़ भी कम रही। इससे भी दमकल टीम को रेस्क्यू करने में काफी मदद मिली।

दो मरीजों की हुई मौत -

भीषण आग से वैसे तो दमकल की टीम ने सभी मरीजों को सुरक्षित दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया, लेकिन इसी दौरान दो मरीजों की मौत हो गयी। मरीजों की मौत की सूचना पर मंडलायुक्त डा. राजशेखर भी मौके पर पहुंचे और शासन को जानकारी दी। हादसे का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्च स्तरीय जांच कमेटी का गठन कर फौरन टीम को लखनऊ से कानपुर के लिए रवाना कर दिया। इसकी पुष्टि खुद मंडलायुक्त ने की। बताया जा रहा है कि शासन ने स्वास्थ्य विभाग के कई बड़े अधिकारियों व प्रमुख सचिव स्तर के अधिकारियों को भी हादसे की जांच के लिए कानपुर भेज दिया है।

Updated : 2021-03-28T12:45:44+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top