Top
Home > Lead Story > गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा - कृषि, किसान व गांव देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा - कृषि, किसान व गांव देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा - कृषि, किसान व गांव देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़
X

लखनऊ। केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि एनआरसी राष्ट्र हित में है। इस मुद्दे पर सियासत नहीं की जानी चाहिए। इससे किसी को डरने की जरूरत नहीं है। अनावश्यक कुछ लोगों द्वारा भय पैदा करने की कोशिश की जा रही है। गृहमंत्री ने शनिवार को यहां गन्ना संस्थान में आर्यावर्त ग्रामीण बैंक के खाता धारकों के लिए निःशुल्क पर्सनल दुर्घटना बीमा की स्कीम की शुरूआत की।

राजनाथ सिंह ने कहा कि असम के लोगों की लंबे समय से यह मांग थी कि एक नेशनल रजिस्टर बनाया जाय। अगर किसी का नाम छूट गया है तो दोबारा अपील कर सकते हैं। यह फाइनल अभी नहीं है।

गृहमंत्री ने कहा कि कृषि, किसान व गांव देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। ग्रामीण बैंक बैंकिंग सिस्टम की रीढ़ है। आर्यावर्त ग्रामीण बैंक ने आम आदमी को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा। ग्रामीण बैंकों के सहयोग से 55 प्रतिशत खाते भारत में खुले हैं।

कहा कि प्रधानमंत्री ने किसानों की आय दोगुना करने का संकल्प लिया है। फर्टीलाइजर की कीमतों में कमी आयी है। अब यूरिया के लिए किसान लाइन नहीं लगा रहे। पहले डेढ़ गुना कीमत पर यूरिया मिलती थी।

राजनाथ ने कहा कि अस्थिरता से किसानों को उबारना होगा। किसान डिप्रेशन में आत्महत्या करता है। भारत दुनिया की बेहतर अर्थव्यवस्था होगी। आज भारत ताकतवर हो गया है। विश्व में हम तेजी से बढ़ रहे हैं। आज टाॅप 10 में हम छठें स्थान पर हैं। भारत टाॅप 05 अर्थव्यवस्था में आयेगा। उसके बाद तीसरे स्थान पर आयेगा।

गृहमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाषण का जिक्र करते हुए कहा की प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा है समाज की अंतिम सीढ़ी तक पहुंचने का काम ग्रामीण बैंकों को करना है। झोपड़ी में बैठा आदमी सोच नहीं सकता था कि वो भी बैंकिंग से जुड़ेगा। उन्होंने कहा की हमारी सरकार ने आम आदमी, समाज के अंतिम पायदान के आदमी को भी बैंकिंग सिस्टम से जोड़ दिया।

इस मौके पर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक, महानगर भाजपा अध्यक्ष मुकेश शर्मा, महामंत्री त्रिलोक सिंह अधिकारी और महानगर उपाध्यक्ष सुनील यादव प्रमुख रूप से थे।

Updated : 2018-08-05T02:35:55+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top