Home > Lead Story > Tripura Students HIV: भारत के इस राज्य में 828 छात्र पाए गए HIV पॉजिटिव, 47 की मौत

Tripura Students HIV: भारत के इस राज्य में 828 छात्र पाए गए HIV पॉजिटिव, 47 की मौत

Tripura Students HIV: त्रिपुरा में एचआईवी से 47 लोगों की मौत हो चुकी हैं और 828 छात्र एचआईवी पॉजिटिव पाए गए हैं।

Tripura Students HIV: भारत के इस राज्य में 828 छात्र पाए गए HIV पॉजिटिव, 47 की मौत
X

Tripura Students HIV: त्रिपुरा से चौंकाने वाली खबर आई है। त्रिपुरा राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी (TSSES) के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार राज्य में 828 छात्रों में एचआईवी पाया गया है, जिनमें से 47 की मौत हो चुकी है। कई एचआईवी संक्रमित छात्र देश के अलग-अलग राज्यों की यूनिवर्सिटी या बड़े कॉलेजों में पढ़ाई कर रहे हैं। TSSES के ज्वॉइंट डायरेक्टर का कहना है कि छात्र नशीले पदार्श का भारी मात्रा में सेवन कर रहे हैं।

इंजेक्शन वाली दवाएं ले रहे हैं छात्र

टीएसएसईएस के अधिकारी ने बताया कि त्रिपुरा में 828 छात्रों को एचआईवी पॉजिटिव पाया गया है, जिनमें से 572 अभी भी इस बीमारी से जूझ रहे हैं और 47 की मौत हो चुकी है। कई छात्र देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में पढ़ने के लिए त्रिपुरा से बाहर चले गए हैं। त्रिपुरा एड्स नियंत्रण सोसाइटी ने 220 स्कूलों और 24 कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में ऐसे छात्रों की पहचान की है जो इंजेक्शन वाली दवाएं लेते हैं। अगर एचआईवी संक्रमित छात्र का इस्तेमाल किया हुआ इंजेक्शन कोई और छात्र इस्तेमाल करता है, तो बीमारी फैल सकती है।आंकड़ों से पता चला है कि लगभग हर दिन एचआईवी के पांच से सात नए मामले सामने आ रहे हैं।

ज्यादातर मामलों में संपन्न परिवारों के बच्चे

एचआईवी मामलों में वृद्धि के लिए नशीली दवाओं के दुरुपयोग को जिम्मेदार ठहराते हुए टीएसएसीएस ने कहा है कि ज्यादातर मामलों में संपन्न परिवारों के बच्चे एचआईवी से संक्रमित पाए गए हैं। ऐसे परिवार भी हैं जहां माता-पिता दोनों सरकारी नौकरी में हैं और बच्चों की मांगों को पूरा करने में कोई संकोच नहीं करते।जब तक उन्हें एहसास हुआ कि उनके बच्चे ड्रग्स के शिकार हो गए हैं, तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

HIV क्या है

एचआईवी वायरस (Human Immunodeficiency Virus) एक वायरस है जो हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम पर हमला करता है। यह सिस्टम हमें अन्य संक्रमण और बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। HIV इसे इतना कमजोर बना देता है कि हमारा शरीर इन संक्रमणों और बीमारियों के खिलाफ सहानुभूति खो देता है। अगर समय रहते इस वायरस को नहीं रोका गया, तो यह एड्स का कारण बन सकता है।

संक्रमण का मुख्य कारण

एचआईवी/एड्स एक महत्वपूर्ण वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है, जो नसों में इंजेक्शन लगाकर नशा करने से जुड़ी है। ड्रग यूजर्स के बीच सुईयां शेयर करना एचआईवी फैलने का मुख्य कारण है, क्योंकि यह ब्लड-टू-ब्लड संपर्क से वायरस फैलाता है। कई क्षेत्रों में इस तरह के व्यवहार से नए एचआईवी संक्रमणों का बड़ा हिस्सा होता है। इसमें असुरक्षित इंजेक्शन प्रथाएं, बाँझ सुइयों की कमी और नशा करने वाली आबादी का हाशिए पर होना शामिल है। सुइयों, सीरिंजों या अन्य इंजेक्शन उपकरणों को शेयर करने से एचआईवी फैलने की संभावना बहुत बढ़ जाती है, क्योंकि वायरस अवशिष्ट खून में शरीर के बाहर जीवित रह सकता है।

Updated : 10 July 2024 4:34 AM GMT
Tags:    
author-thhumb

Puja Roy

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Top