Home > Lead Story > Helicopter Crash: ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का हेलिकॉप्टर क्रैश, कहां तक पहुंचा रेस्क्यू ऑपरेशन, जानिए अबतक के बड़े अपडेट्स

Helicopter Crash: ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का हेलिकॉप्टर क्रैश, कहां तक पहुंचा रेस्क्यू ऑपरेशन, जानिए अबतक के बड़े अपडेट्स

Helicopter Crash: ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का हेलिकॉप्टर क्रैश, कहां तक पहुंचा रेस्क्यू  ऑपरेशन, जानिए अबतक के बड़े अपडेट्स
X

Ebrahim Raisi Helicopter Crash: ईरान से बीते दिन यानी 19 मई 2024 को बहुत बड़ी खबर सामने आई। वो खबर रही ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का हेलीकॉप्टर क्रैश की। हादसे वाले हेलीकॉप्टर में ईरान के विदेश मंत्री होसैन अमीराब्दुल्लाहियन भी सवार थे। हादसे पर अलजजीरा ने बताया है कि रेड क्रिसेंट की रेस्क्यू टीम हेलिकॉप्टर की क्रैश साइट तक पहुंच गई है। लेकिन यह किस स्थिति में है और इसमें सवार लोग जिंदा हैं या नहीं, इसके बारे में अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है।

बता दें इस सर्च अभियान में तुर्की के ड्रोन का उपयोग किया जा रहा है। इसी ड्रोन को अजरबैजान की पहाड़ियों पर एक जलती जगह मिली थी। जिसके बाद वहां सर्चिंग टीम भेजी गई है। हादसा ऐसी जगह हुआ, जहां जंगल ही जंगल और पहाड़ हैं। कल रात से सर्च ऑपरेशन जारी है।

रईसी को लेकर क्या अपडेट?

ईरान के स्टेट मीडिया IRNA के मुताबिक, रईसी 19 मई की सुबह अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव के साथ एक बांध का उद्घाटन करने गए थे। अरास नदी पर बना यह तीसरा बांध है, जिसे दोनों देशों ने मिलकर बनाया है। वापस लौटने के दौरान ईरान के वरजेघन शहर में रईसी का हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया। हादसे वाले जगह से अजरबैजान की सीमा बेहद ही नजदीक है।

बता दें कि जहां ईरान के राष्ट्रपति रईसी का हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ है, वहां जंगल ही जंगल है। साथ ही वहां बारिश हो रही है और घना कोहरा छाया हुआ है। जिसकी वजह से रेस्क्यू टीम को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। खबरों की मानें तो खराब मौसम की वजह से रेस्क्यू टीम घटनास्थल पर बड़ी मुश्किलों से पहुंच पाई है।

खबरों की मानें तो ,हेलीकॉप्टर क्रैश साइट पर रेस्क्यू टीम देर रात 12 बजे तक पहुंची। टीम को क्रैश हेलीकॉप्टर मिलने की खबर आ रही है। इसी बीच ईरानी उपराष्ट्रपति का बड़ा बयान सामने आया है। उनके मुताबिक, हेलीकॉप्टर में सवार दो लोगों से संपर्क हो पाया है।

IRNA की रिपोर्ट के मुताबिक, कोहरे, बारिश और ठंड की वजह से हेलिकॉप्टर के जरिए रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम देना लगभग असंभव था। जिसकी वजह से सड़क के रास्ते 20-40 टीमों को घटनास्थल की तरफ रवाना किया गया। इनमें ईरान की स्पेशल फोर्सेज IRGC के सदस्य समेत रेंजर्स शामिल हैं। इनके पास छानबीन के लिए ड्रोन्स और सर्च डॉग्स भी मौजूद हैं।

रईसी के काफिले में मौजूद थे 3 हेलिकॉप्टर

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ईरानी राष्ट्रपति रईसी के काफिले में तीन हेलिकॉप्टर मौजूद थे, इन्हीं में से एक पर रईसी और विदेश मंत्री होसैन अमीराब्दुल्लाहियन सवार थे। बाकी के बचे दो हेलिकॉप्टर पर मंत्री और अधिकारी सवार थे। बता दें इन दोनों हेलिकॉप्टर को लेकर भी अभी तक सही जानकारी सामने नहीं आई है।

वहीं जो हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ है वो अमेरिका में बना हुआ है जिसका नाम बेल 212 हेलिकॉप्टर था। दो ब्लेड वाला यह एयरक्राफ्ट एक मीडियम साइज का हेलिकॉप्टर है। इसमें पायलट सहित 15 लोग आसानी से बैठ सकते हैं। हालांकि, राष्ट्रपति रईसी के हेलिकॉप्टर में कितने लोग बैठे थे, इसे लेकर भी अभी तक कोई जानकारी नहीं आई है।

कौन हैं इब्राहिम रईसी?

इब्राहिम रईसी को एक कट्टरपंथी नेता के तौर पर देखा जाता है। साल 2021 में इ्न्होंने ईरान की सत्ता संभाली थी। बता दें राष्ट्रपति पद का चुनाव जीतने से पहले भी रईसी कई वजहों से चर्चाओं में रहे हैं। वे सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खामनेई के बेहद करीबी हैं। दावा किया जाता रहा है कि रईसी खामनेई के उत्तराधिकारी भी हो सकते हैं।

इब्राहिम रईसी के नाम रिकॉर्ड भी है। ये पहले ऐसे ईरानी राष्ट्रपति हैं, जिन पर पदभार संभालने से पहले ही अमेरिका बैन लगा चुका है। दरअसल, रईसी साल 1988 में सरकारी वकील थे। वे उन खुफिया ट्रिब्यूनल्स का हिस्सा रहे हैं, जिन्हें 'डेथ कमेटी' के नाम से जाना जाता है।

रईसी द्वारा 5 हजार राजनेताओं को देशद्रोही साबित किया गया था। इन सभी को फांसी की सजा सुनाई गई थी। इसी घटना के बाद अमेरिका ने रईसी पर बैन लगा दिया था।

क्या 50 दिन के अंदर ईरान में होंगे चुनाव?

ईरान में राष्ट्रपति को सरकार का हेड जबकि सुप्रीम लीडर को हेड ऑफ स्टेट के नाम से जाना जाता है। अलजजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक, ईरान में अगर राष्ट्रपति की अचानक मौत हो जाती है तो संविधान के अनुसार उप-राष्ट्रपति को पद सौंपा दिया जाता है।

इसके लिए खुद सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह अली खामेनेई अप्रूवल देंगे। बता दें कि मौजूदा समय में ईरान के उप-राष्ट्रपति मोहम्मद मुखबेर हैं। उनके पद संभालने के बाद ईरान में अगले 50 दिन के अंदर राष्ट्रपति के चुनाव होंगे।

Updated : 20 May 2024 3:26 AM GMT
Tags:    
author-thhumb

Raj Singh

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Top