Home > Lead Story > गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान लांच, 16 मंत्रालय और 200 प्रकार के डाटाबेस को आपस में जोड़ा

गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान लांच, 16 मंत्रालय और 200 प्रकार के डाटाबेस को आपस में जोड़ा

गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान लांच, 16 मंत्रालय और 200 प्रकार के डाटाबेस को आपस में जोड़ा
X

नईदिल्ली/भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज प्रगति मैदान में गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान लांच किया गया। जिसमे विभिन्न मंत्रालयों के मंत्रीगणों की विशेष उपस्थिति रही। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, कॉमर्स मिनिस्टर पियूष गोयल, नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव प्रधानमंत्री के साथ शामिल हुए। विभिन्न प्रदेशों के मुख्यमंत्री, राज्यपाल भी शामिल हुए।


गति शक्ति एक डिजिटल प्लेटफार्म है जो एकीकृत योजना और बुनियादी ढांचा कनेक्टिविटी परियोजनाओं के समन्वित कार्यान्वयन के लिए रेल और सड़क मार्ग सहित 16 मंत्रालयों को एकसाथ लाएगा। मूलत: गति शक्ति में 200 प्रकार के डाटाबेस होंगे, जिसमें जीआईएस प्राणाली द्वारा भौतिक सुविधाओं, जिला प्रशासन कार्यालयों, रेल, सड़क और गैस लाइनों, स्वास्थ्य और पुलिस जैसी सुविधाओं के साथ जल निकायों, आरक्षित पार्कों तथा वनों जैसे संसाधनों को मैप किया जाएगा। इसके माध्यम से विभिन्न केन्द्रीय मंत्रालय एवं राज्य सरकारें बेहतर लॉजिस्टिक योजनाओं और कनेविटी से लाभान्वित हो सकेंगी।


भोपाल से वर्चुअल माध्यम से शामिल हुए मप्र मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का विजन, कल्पनाशील मस्तिष्क, विकास की ललक, रोडमैप तैयार करना और उस पर पूरी ताकत से पूरे देश को चलाना, सचमुच अद्भुत है। वे एक नया भारत गढ़ रहे हैं। विकास के इस महा अभियान में मध्यप्रदेश पूरी ताकत से जुटेगा। मध्यप्रदेश तत्काल पीएम गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान से जुड़ने का फैसला करता है।

मुख्यमंत्री चौहान बुधवार को "प्रधानमंत्री गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान" के शुभारम्भ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रगति मैदान दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में "प्रधानमंत्री गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान" का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भोपाल के मिंटो हॉल से वर्चुअली सम्मिलित हुए। उन्होंने मिंटो हाल में राज्य स्तरीय "कॉन्फ्रेंस ऑन मल्ट इन्फ्रा-स्ट्रक्चर कनेक्टिविटी" का शुभारंभ भी किया। मिंटो हॉल में आयोजित कार्यक्रम में औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राज्यवर्धन सिंह दत्तीगाँव, प्रमुख सचिव उद्योग संजय शुक्ला सहित अन्य अधिकारी, उद्योगपति तथा व्यापार जगत के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विकास के लिए सामूहिक शक्ति और एकजुटता से ताकत लगाने की आवश्यकता है। विभिन्न विभागों की गतिविधियों में परस्पर समन्वय जरूरी है। टैक्सपेयर के एक-एक पैसे का कैसे सही उपयोग हो, यह दायित्व सरकारों का और अधिकारियों का भी है। अत: हम प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलेंगे और मध्यप्रदेश सामूहिक शक्ति का प्रदर्शऩ करेगा। सरकार का मतलब हम सब है, केवल मुख्यमंत्री और अधिकारी नहीं। जन-भागीदारी के मॉडल पर प्रदेश में कई अभियान संचालित किए गए हैं। इन्फ्रा-स्ट्रक्चर के विकास के अनेक कार्य प्रदेश में किए जा रहे हैं। समय–सीमा में काम पूरे हों, गुणवत्तापूर्ण कार्य हों, सामंजस्य के साथ काम हों, सारे प्रयास एक दिशा में हों, जिससे समय भी बचे और पैसा भी।

उन्होंने कहा कि मल्टी मॉडल इन्फ्रा-स्ट्रक्चर कनेक्टिविटी के अंतर्गत हम सब विकास के पार्टनर हैं। बिना निजी क्षेत्र को जोड़े विकास संभव नहीं है। सरकारी शब्द के लिए बने माइंड सेट बदलने की जरूरत है। प्रधानमंत्री मोदी ने जो दिशा दिखाई है, उस पर मिल-जुलकर चलते हुए हम अपनी सृजनात्मक क्षमता का उपयोग कर मध्यप्रदेश को आगे बढ़ाएंगे।


Updated : 2021-10-17T00:09:38+05:30
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top