Home > Lead Story > सरकार किसानों के साथ बातचीत और कानून में संशोधन के लिए तैयार : राजनाथ सिंह

सरकार किसानों के साथ बातचीत और कानून में संशोधन के लिए तैयार : राजनाथ सिंह

सरकार किसानों के साथ बातचीत और कानून में संशोधन के लिए तैयार : राजनाथ सिंह
X

नई दिल्ली। किसान आन्दोलन को लेकर चल रही तनातनी के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक बार फिर कहा कि है बातचीत के जरिए ही मामले का हल निकाला जा सकता है। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के साथ बातचीत करने और कानून में संशोधन के लिए तैयार है।

एमएसपी किसी भी सूरत में नहीं होगी बन्द -

रक्षा मंत्री व लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह ने सोमवार को यहां भाजपा की उत्तर प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में कृषि कानूनों के मुद्दे पर किसानों से अपील करते हुए कहा कि बातचीत के द्वारा ही इसका समाधान हो सकता है। हम सब लोग किसान परिवार के हैं, किसानों से हमें पूरी सहानुभति है। किसान जितनी बार कहेंगे हम उतनी बार बैठेंगे। हम लोग संशोधन भी करने को तैयार हैं। किसानों के लिए, कृषि जगत के हित में जो कुछ भी होगा, हम लोग वह करेंगे। हमारा संकल्प है कि हम किसानों की आमदनी दोगुनी करेंगे। न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) किसी भी सूरत में बन्द नहीं होगी। एमएसपी बंद करने का सवाल ही नहीं है।

ढांचा गिरने और मंदिर शिलान्यास दोनों के समय भाजपा सरकार -

इस मौके पर राजनाथ सिंह ने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी और प्रदेश की योगी सरकार की विभिन्न उपलब्धियों को भी गिनाया। वहीं उन्होंने राम मंदिर के मुद्दे पर कहा कि जब से राम जन्म भूमि का आन्दोलन प्रारंभ हुआ, उसके बाद से जितने भी चुनाव हुए हैं हम लोग राम मंदिर बनाने की बात कहते थे। तब विपक्ष के लोग वोट हासिल करने के लिए भाजपा पर राम जन्मभूमि को बीच में लाने की बात कहते थे। लेकिन, वह दिन भी आया। प्रधानमंत्री मोदी ने अयोध्या में मंदिर निर्माण का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि संयोग देखिए ढांचा गिरा तब यहां भाजपा के मुख्यमंत्री कल्याण सिंह थे और राम मंदिर का शिलान्यास हुआ तब भाजपा के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं।

अंतरराष्ट्रीय जगत में होगी भारत की साख और धाक -

उन्होंने कहा कि कुछ ना कुछ ऊपर वाले को मंजूर है और मंजूर यह है कि भारत एक सशक्त भारत के रूप में खड़ा होना चाहिए। पूरे विश्व में अंतरराष्ट्रीय जगत में इसकी साख हो, धाक हो और विश्वसनीयता हो। उन्होंने कहा कि भारत ऐसा देश बनेगा, जो केवल भारतवासियों की चिंता करने वाला नहीं होगा, बल्कि ऐसा भारत बनेगा, जैसा हमारे ऋषि-मनीषी कहते आए हैं। उन्होंने इसी भारत की धरती से वसुधैव कुटुम्बम का संदेश देने का काम किया था। यह सारा विश्व ही हमारा परिवार है। अगर हम अपनी ताकत बढ़ाना भी चाहते हैं तो इसके पीछे विश्व कल्याण का भाव है।

भाजपा का एक बार भी विभाजन नहीं -

उन्होंने भाजपा को अन्य सियासी दलों से अलग बताते हुए कहा कि सारी राजनीतिक पार्टियों का विभाजन हुआ है लेकिन भाजपा का एक बार भी विभाजन नहीं हुआ है। यह हमारे दर्शन की दिशा व दृष्टि जो एकात्म मानववाद से प्रेरित है, से मिलती है। हम राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रति आग्रही हैं, केवल सत्ता प्राप्त करने वाली पार्टी नहीं सोच सकती भाजपा ही सोच सकती है। हम पाने शहीदों, बलिदानियों और प्रेरणा देने वाली विभूतियों के बारे में पूरे देश को बताएंगे। 2022 में स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ से के 75 सप्ताह हम अमृत महोत्सव मना रहे हैं। पार्टी भी इस अभियान को व्यापक तौर पर मनाएगी।

जनसंघ के समय कोई नहीं सोच सकता थ भाजपा की बनेगी सरकार

राजनाथ सिंह ने कहा कि अटल जी जनसंघ के अध्यक्ष थे तो कोई सोच नहीं सकता था कि हम सरकार बनाएंगे। आज चप्पा-चप्पा भाजपा का हमारा नारा चरित्रार्थ हुआ है। हम अटल जी के नाम पर आगे बढ़े थे, संविदा सरकार, फिर जनता पार्टी की सरकार फिर राम जन्मभूमि आन्दोलन में घर-घर हमारी पार्टी के प्रति विश्वास ने हमारा जनाधार बढ़ाया।

उन्होंने कहा कि 1991 में हम पहली बार स्पष्ट बहुमत की सरकार बना सके। उसके बाद आज दूसरी बार 2017 में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार है। भाजपा सत्ता हासिल करने वालों का झुंड नहीं है, हम जीवंत राजनीतिक संगठन हैं। हमारा अपना राजनीतिक दर्शन है।

राजीव गांधी ने लाचारी की ​थी व्यक्त, प्रधानमंत्री मोदी ने नहीं

रक्षा मंत्री ने कहा कि कांग्रेस के प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने लाचारी व्यक्त की कि भ्रष्टाचार के नाते मैं पूरी मदद नहीं कर सकता। जबकि हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लाचारी नहीं जताई जनधन के खाते खोले और हर व्यक्ति को सीधे मदद की। कहीं भी एक पैसा भ्रष्टाचार की भेंट नहीं चढ़ा। गरीबों को छत दिलाई, आज यूपी में 40 लाख घर बन रहे हैं। हमारे प्रधानमंत्री ने स्वच्छता को आन्दोलन में बदला, प्रधानमंत्री ने झाड़ू उठाई तो लोगों ने मजाक बनाया। आज परिदृश्य बदला है, विश्व स्वास्थ्य संगठन भी इसकी तारीफ करता है। हर घर बिजली का भियान हो या उज्ज्वला योजना यूपी ने सबसे ज्यादा काम किया।

हम कमजोर नहीं दुश्मन की जमीन पर आतंकियों का सफाया करने वाले देश

रक्षा मंत्री ने कहा कि आज हम वैश्विक महाशक्ति बनने की ओर अग्रसर हैं। सीमा की सुरक्षा हो या आंतरिक सुरक्षा का मसला। हम किसी भी मामले में कमजोर नहीं हैं। चीन के साथ विवाद की स्थिति में हमारे जवानों के शौर्य व संयम की जितनी तारीफ की जाए वो कम है। हम पहले किसी पर हमला नहीं करेंगे न ही किसी को अपनी भूमि का इंच भर भी किसी को लेने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि हम कमजोर देश नहीं दुश्मन की जमीन पर आतंकियों का एयर स्ट्राइक से सफाया करने वाले देश हैं।


Updated : 2021-10-12T16:22:00+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top