Top
Home > Lead Story > काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट ने पुरातात्विक सर्वेक्षण को दी मंजूरी

काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट ने पुरातात्विक सर्वेक्षण को दी मंजूरी

काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट ने पुरातात्विक सर्वेक्षण को दी मंजूरी
X

वाराणसी। काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में पुरातात्विक सर्वेक्षण और सारा खर्च सरकार के उठाने के बड़े फैसले पर आज वाराणसी फार्स्ट ट्रैक कोर्ट के जज आशुतोष तिवारी ने मोहर लगा दी है | इससे पहले दो अप्रैल को हुई सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों की बहस के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया गया था। आज कोर्ट ने सर्वे रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया है।

जनवरी 2020 में अंजुमन इंतजामिया मस्जिद समिति ने ज्ञानवापी मस्जिद और परिसर का एएसआई द्वारा सर्वेक्षण कराए जाने की मांग पर प्रतिवाद दाखिल किया। पहली बार 1991 में वाराणसी सिविल कोर्ट में स्वयंभु ज्योतिर्लिंग भगवान विश्वेश्वर की ओर से ज्ञानवापी में पूजा की अनुमति के लिए याचिका दायर की गई थी। बाद में दिसंबर 2019 में अधिवक्ता विजय शंकर रस्तोगी ने सिविल जज की अदालत में स्वयंभु ज्योतिर्लिंग भगवान विश्वेश्वर की ओर से एक आवेदन दायर किया था, जिसमें भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संपूर्ण ज्ञानवापी परिसर का सर्वेक्षण करने का अनुरोध किया गया था। उन्होंने स्वयंभु ज्योतिर्लिंग भगवान विश्वेश्वर के 'वाद मित्र' के रूप में याचिका दायर की थी.

याचिका दाखिल करते हुए ये दावा किया था कि काशी विश्वनाथ मंदिर का निर्माण लगभग 2,050 साल पहले महाराजा विक्रमादित्य ने करवाया था, लेकिन मुगल सम्राट औरंगजेब ने सन 1664 में मंदिर को नष्ट कर दिया था। दावा किया गया कि इसके अवशेषों का इस्तेमाल मस्जिद बनाने के लिए किया था, जिसे मंदिर भूमि पर निर्मित ज्ञानवापी मस्जिद के रूप में जाना जाता है. याचिकाकर्ता ने अदालत से मंदिर की जमीन से मस्जिद को हटाने का निर्देश जारी करने और मंदिर ट्रस्ट को अपना कब्जा वापस देने का अनुरोध किया था।

Updated : 2021-04-08T16:58:31+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top