Top
Home > Lead Story > बाबा रामदेव ने लांच की कोरोना की दवा, कहा - सनातन चिकित्सा पद्धति में आज अहम दिन

बाबा रामदेव ने लांच की कोरोना की दवा, कहा - सनातन चिकित्सा पद्धति में आज अहम दिन

बाबा रामदेव ने लांच की कोरोना की दवा, कहा - सनातन चिकित्सा पद्धति में आज अहम दिन
X

नईदिल्ली। योगगुरु बाबा रामदेव के संस्थान पतंजलि आयुर्वेद ने कोरोना संक्रमण की आयुर्वेदिक दवा आज मार्किट में उतारी है। बाबा रामदेव ने आज कॉन्स्टीचुशनल क्लब में आयोजित कार्यक्रम में दवा लांच की। इस अवसर पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और केन्द्रीय सड़क व परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद रहे । बाबा ने कहा की आज का दिन ऐतिहासिक है। आज छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती है। शोध व अनुभव पर आधारित सनातन चिकित्सा पद्धति में आज अहम दिन है।

उन्होंने बताया की पतंजलि ने सैकड़ों रिसर्च पेपर तैयार किये है जो पूरे विश्व के समक्ष रखे है। कोरोना जैसी संक्रामक बीमारी में सभी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कोरोनिल दवा को सभी के सामने रखा गया है। इस संदर्भ में 9 रिसर्च पेपर जर्नल में छपे हैं और 16 रिसर्च पेपर पाइप लाइन में है। कोरोनिल ने लाखों लोगों को जीवनदान दिया है। भारत में आयुर्वेद का उपयोग किया गया इसके कारण यहां कोरोना से रिकवरी रेट सबसे ज्यादा है और मृत्यु दर सबसे कम है।

पारंपरिक चिकित्सा पद्धति पर जोर देना होगाः डॉ. हर्षवर्धन

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि आयुर्वेद की प्रतिष्ठा को संसार में पुनर्स्थापित करने का सपना मन में हमेशा रहा है। हम सब जानते हैं कि आयुर्वेद का ज्ञान अर्थर्वेद में समाहित है। लेकिन भारत का दुर्भाग्य रहा कि ब्रिटिश शासन के दौर में इंडियन सिस्टम ऑफ मेडिसिन का प्रचार-प्रसार रुक गया। उसके बाद भी जितना इसे प्रसारित किया जाना चाहिए था उतना नहीं किया गया। उसकी अहमियत को नहीं समझा गया। उन्होंने कहा कि आने वाले 21 वीं शताब्दी के हेल्थ फॉर ऑल के लक्ष्य को प्राप्त करना है तो हमें आयुर्वेदिक ज्ञान को बढ़ावा देना होगा। पारंपरिक चिकित्सा पद्धति से प्रीवेंटिव हेल्थ, बीमारियों से बचाव में, लोगों के स्वस्थ रखने में बहुत महत्वपूर्ण योगदान होगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी आयुर्वेद के महत्व को समझते हुए इसे सभी प्रकार की मान्यता दी है। यह एक बड़ी उपलब्धि है।

आयुर्वेद से विश्व को नई दिशा मिलेगीः नितिन गडकरी

इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि हमें खुशी है कि हमारी योग विद्या का आयुर्वेद ने रिसर्च करने के लिए एक बड़े संस्थान की स्थापना की है। आज ज्ञान सबसे बड़ी ताकत है। ज्ञान को धन में बदलने की ताकत ही देश का भविष्य तय करती है। योग विद्या पूरे विश्व को दिशा दे सकती है। उन्होंने कहा अनुसंधान सहित स्वदेशी उत्पाद तैयार कर हमारे स्वदेशी विचारों को विश्व में लोकप्रिय किया। इससे आयुर्वेद के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ा है। आज पूरे विश्व में लोग योग का अनुकरण कर रहे हैं। चमत्कारों की अनुभूति आने से ही लोगों ने इसका अनुसरण किया है। प्रभोधन, प्रशिक्षण और अनुसंधान के विकास से आयुर्वेद वैज्ञानिक आधार को लेकर जनता के सामने आए हैं, निश्चित रूप से जनता में इसको लेकर विश्वास बढ़ेग

Updated : 19 Feb 2021 6:45 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top