Top
Home > विदेश > मुसलमानों को प्रताडित करने के मामले में अमेरिका ने चीन को लगाई फटकार

मुसलमानों को प्रताडित करने के मामले में अमेरिका ने चीन को लगाई फटकार

मुसलमानों को प्रताडित करने के मामले में अमेरिका ने चीन को लगाई फटकार
X

वॉशिंगटन। अमेरिका ने आतंकवादी संगठनों को यूएन से प्रतिबंध लगाने पर बचाव करने के लिए चीन को लताड़ते हुए कहा कि वह अपने देश में मुसलमानों को प्रताडित करने का कार्य करता है।अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि चीन अपने घर में लाखों मुसलमानों को प्रताडि़त कर रहा है। इसके बाद हिंसक इस्लामिक आतंकी समूहों को संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध से रक्षा करने का काम करता है।

चीन ने उइगर और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यक समुदाय के 10 लाख लोगों को अप्रेल 2017 से शिनजियांग के नजरबंदी कैंपों में कैद कर रखा है। पॉम्पियो ने कहा कि अमेरिका उनके और उनके परिवारों के साथ है। चीन को हिरासत में लिए गए सभी लोगों को रिहा करना चाहिए और इसके दमन को समाप्त करना चाहिए। यह बयान स्पष्ट तरीके से चीन द्वारा पाकिस्तान बेस्ड आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव को रोकने की ओर था।

जैश या मसूद का नाम लिए बिना पॉम्पियो ने ट्वीट करते हुए कहा कि दुनिया मुसलमानों के प्रति चीन के शर्मनाक पाखंड को बर्दाश्त नहीं करेगी। एक तरफ चीन अपने देश में 10 लाख से अधिक मुसलमानों को प्रताडि़त कर रहा है और दूसरी तरफ यह हिंसक इस्लामिक आतंकी समूहों को यूएन प्रतिबंध से बचाता है। कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हमले के बाद अमेरिका ने ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की मुहिम चलाई और यूएन में प्रस्ताव भी रखा। लेकिन चीन ने इस पर वीटो लगा दिया। चीन ने प्रस्ताव को यह तर्क देते हुए अटका दिया कि वह इसके अध्ययन के लिए अधिक समय चाहता है।

Updated : 28 March 2019 4:02 AM GMT
Tags:    

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top