Home > देश > Dharmendra Pradhan Biography: कुछ ऐसा है देश के शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का राजनीतिक सफर

Dharmendra Pradhan Biography: कुछ ऐसा है देश के शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का राजनीतिक सफर

Dharmendra Pradhan: केंद्र और राज्य की राजनीति में आने से पहले धर्मेंद्र प्रधान ने अपने राजनीतिक सफ़र की शुरूआत छात्र राजनीति से शुरू कर दी थी। पिता देबेंद्र प्रधान वाजपेयी सरकार में राज्य मंत्री भी थे तो धर्मेंद्र प्रधान ने अपने पिता के राजनीतिक वर्चस्व को भी भुनाने की कोशिश की थी।

Dharmendra Pradhan Biography: कुछ ऐसा है देश के शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का राजनीतिक सफर
X

Education minster Dharmendra Pradhan: ओडिशा के तालचेर में जन्में आज के शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का जन्म 26 जून 1969 में हुआ था। धर्मेंद्र प्रधान के पिता देबेंद्र प्रधान 1999 से 2004 तक वाजपेयी सरकार में राज्य मंत्री भी थे। इसी के साथ ही वे भी कॉलेज के समय से ही छात्र राजनीति में जुड़ गए। आईए आपको बताते हैं कि कैसे शुरू हुआ धर्मेंद्र प्रधान का राजनीतिक सफर।

केंद्र और राज्य की राजनीति में आने से पहले धर्मेंद्र प्रधान ने अपने राजनीतिक सफ़र की शुरूआत छात्र राजनीति से शुरू कर दी थी। पिता देबेंद्र प्रधान वाजपेयी सरकार में राज्य मंत्री भी थे तो धर्मेंद्र प्रधान ने अपने पिता के राजनीतिक वर्चस्व को भी भुनाने की कोशिश की थी।

2000 में पहली बार बने विधायक

कॉलेज की राजनीति को अलविदा कहने के बाद साल 2000 में पहली बार धर्मेंद्र प्रधान ने अपने राज्य के राजनीतिक सफर की शुरूआत की और विधायक चुने जाने के बाद राजनीति में अपना करियर शुरू किया था। फिर इसके बाद साल 2004 में उन्होंने ओडिशा के देवगढ़ से लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा और चुनाव में जीत दर्ज कर विधायक से सांसद की कुर्सी पर काबिज हुए।

मगर फिर 2009 के चुनाव में वे पल्लाहारा विधानसभा सीट से हार गए। इसके बाद वे बिहार और फिर मध्य प्रदेश से राज्यसभा भेजने के लिए केंद्रीय नेतृत्व ने विचार किया था। धर्मेंद्र प्रधान की शिक्षा की बात करें तो उन्होंने भुवनेश्वर की उत्कल यूनिवर्सिटी से मानवशास्त्र में पोस्टग्रेजुएट की डिग्री हासिल की है और लगातार तीसरी बार उन्हें शिक्षा मंत्री बनाया गया है।

2017 में बढ़ा धर्मेंद्र प्रधान का कद

इसके बाद 2014 में बीजेपी की केंद्र में सरकार बनी तब केवल राज्य मंत्री ही बनकर रह गए थे, साल 2017 आते आते उन्हें पहली बार कैबिनेट मंत्री बनाया गया। 2017 में कैबिनेट के फेरबदल में धर्मेंद्र प्रधान को उसी मंत्रालय के लिए कैबिनेट रैंक में पदोन्नत किया गया था। इसके बाद धर्मेंद्र प्रधान ने पीछे मुड़कर नहीं देखा, इसके साथ ही उन्हें कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी भी दे दी गई बाद में उन्होंने मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में कैबिनेट मंत्री के रूप में अपना पद फिर से संभाला। इसके बाद 2021 में, प्रधान को केंद्रीय शिक्षा, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया।

9 जून 2024 को तीसरी बार लिया शपथ

बीजेपी के नेतृत्व में लगातार तीसरी बार एनडीए गठबंधन की सरकार का गठन 9 जून 2024 को हो गया। प्रधानमंत्री मोदी ने लगातार तीसरी बार पीएम पद सपथ ली। इस सरकार में लगातार तीसरी बार धर्मेंद्र प्रधान ने केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ ली थी। मोदी 3.0 में कई बड़े मंत्रियों के छुट्टी कर दी गई, और कई ऐसे भी मंत्री हैं जिनको तीसरी बार फिर मंत्री बनाया गया है। राजनाथ, शाह और गडकरी के अलावा ऐसे नामों में धर्मेंद्र प्रधान का भी नाम शामिल है जो 2014 से लगाता तीसरी बार मोदी कैबिनेट का हिस्सा बने।

Updated : 24 Jun 2024 10:12 AM GMT
Tags:    
author-thhumb

Anurag Dubey

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Top