Home > स्वास्थ्य > हेल्थ टिप्स > चाबी या पर्स रखकर भूल जाते है तो हो जाएं सावधान, ये अल्जाइमर के हो सकते है लक्षण, जानिए क्या है उपाय

चाबी या पर्स रखकर भूल जाते है तो हो जाएं सावधान, ये अल्जाइमर के हो सकते है लक्षण, जानिए क्या है उपाय

चाबी या पर्स रखकर भूल जाते है तो हो जाएं सावधान, ये अल्जाइमर के हो सकते है लक्षण, जानिए क्या है उपाय
X

वेबडेस्क। हम सभी अपने दैनिक जीवन की व्यस्तता के चलते काई चीजें भूल जाते है। जैसे घर से बाहर निकलते समय दरवाजे में ताला बंद करने के बावजूद बार-बार लगे कि ताला बंद किया है कि नहीं या कार या घर की चाबियां कहीं रखकर भूल जाना ओर उन्हें दूसरी जगह ढूंढना। ऐसे संकेत आप में भी है तो बता दें की सामान्य सी लगने वाली ये घटनाएं गंभीर बिमारी अल्जाइमर के होने के संकेत हो सकते है। समय पर इसका उपचार शुरू न होने पर यह रोग इस कदर बढ़ता है कि व्यक्ति अपने परिवारजनों को भी नहीं पहचान पाता। यहां तक कि वह खुद की भी पहचान भूल जाता है। ये भूलने का संकट अक्सर 65 वर्ष से अधिक के उम्र के लोगों को होता है, लेकिन कई युवाओं में भी देखने को मिल रहा है।

अल्जाइमर एक ऐसी मानसिक बीमारी है, जो आपकी रोजाना की दिनचर्या को काफी प्रभावित करती है। इस रोग से पीड़ित रोगी बार-बार चीजों को रखकर भूल जाता है। ज्‍यादातर लोगों का मानना है कि उम्र के साथ याददाश्त का कमजोर होना आम बात है। यही वजह है कि अधिकतर लोग बिना ट्रीटमेंट के कई तरह की पर्सनेलिटी डिसऑर्डर का सामना करते रहते हैं। ऐसे में आइए जानते हैं आखिर क्या है यह रोग इसके लक्षण और कैसे आप घर पर ही कर सकते हैं अल्जाइमर के मरीज की देखभाल।

-यह है अल्जाइमर के लक्षण. -

  • रखी हुई चीजों को भूल जाना
  • कुछ भी याद करने, निर्णय लेने की क्षमता कमजोर होना
  • रात में नींद का न आना
  • डिप्रेशन में रहना और हमेशा भयभीत रहना
  • एक ही सवाल को बार-बार दोहराना
  • कपड़ों का उल्टा-सीधा पहनना
  • चिड़चिड़ापन और परिजनों पर गुस्सा करना
  • दैनिक कार्यो को भी भूल जाना

ऐसे रखें ख्याल -

  • मरीज़ को बिल और पैसे संभालने में, दवाओं आदि को याद रखने में मदद करें।
  • मरीज को याद रखने के लिए नोटपैड में या अपने फोन पर रिमाइंडर लगाने की आदत डालें।
  • डेमेंशिया के मरीजों से बात करते समय धैर्य और सहानभूति से काम लें।
  • घर पर तनाव मुक्त वातावरण बनाएं रखें।
  • समय पर दवाइयां एवं डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें।
  • खतरनाक वस्तुओं को मरीज की पहुंच से दूर रखें।

Updated : 21 Sep 2022 11:19 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top