Home > राज्य > मध्यप्रदेश > अन्य > नाजनीन बानो नहीं, अब श्रीमती नैन्सी गोस्वामी कहिए

नाजनीन बानो नहीं, अब श्रीमती नैन्सी गोस्वामी कहिए

  • मुस्लिम युवती की घर वापसी, मतांतरण कर हिन्दू युवक से किया विवाह

नाजनीन बानो नहीं, अब श्रीमती नैन्सी गोस्वामी कहिए
X

वेब डेस्क। फिर एक बार मतांतरण कर घर वापसी का मामला सामने आया है। इस बार मामला गुना जिले से जुड़ा है। जिसमें कुंभराज निवासी एक मुस्लिम युवती ने पहले मतांतरण किया। फिर पूर्ण सनातन रीति-रिवाज से हिन्दू युवक से शादी की। विवाह की सारी रस्में मंदसौर के गायत्री मंदिर में पूर्ण की गईं। इसके बाद 19 वर्षीय नाजनीन बानों पुत्री मोहम्मद जफर का नाम भी नैन्सी गोस्वामी हो गया है। बता दें कि दोनों ने छह माह पहले अपना घर छोड़ दिया था और तभी से इधर-उधर भटक रहे थे। बहरहाल इस प्रेम विवाह को लेकर शुक्रवार को चर्चाएं आम रहीं। लोग इसे सनातन धर्म की श्रेष्ठता से जोडक़र देखते रहे। दूसरी ओर बताया यह जाता है कि मंदसौर में पिछले 5-6 माह में इतने ही ऐसे मामले सामने आ चुके है। जिसमें किसी मुस्लिम की सनातन धर्म में वापसी हुई है।

टिकटॉक पर हुआ संपर्क, गायत्री मंदिर में लिए फेरे

जानकारी मुताबिक नाजनीन बानो का करीब तीन साल पहले वर्ष 2019 में टिकटॉक के जरिए दीपक पुत्र विठ्ठल गोस्वामी से संपर्क हुआ था। बाद में यह संपर्क लगातार गहराता गया और बाद में यह संपर्क प्रेम में बदल गया। दोनों शादी करना चाहते थे। बाद में जब युवती के घर वालों को इसकी जानकारी लगी तो उन्होने धर्म अलग-अलग होने के चलते विरोध जताया। बताया जाता है कि तत्समय ही युवती मतांतरण कर सनातन धर्म में वापसी को तैयार हो चुकी थी, किन्तु बात नहीं बनी तो दोनों ने 13 मई 2022 को घर छोड़ दिया था।

सात फेरे लेकर बंधे सात जन्मों के अटूट बंधन में

घर छोडऩे के बाद लंबे समय तक इधर-उधर भटकने के बाद कुछ दिन पहले दीपक ने अपने परिवार से संपर्क किया। दीपक ने परिवार वालों से कहा कि नाजनीन सनातन धर्म अपनाना चाहती है। इसके बाद युवक के पिता ने मंदसौर के पत्रकार चेतन्य सिंह राजपूत से संपर्क किया। चैतन्य राजपूत के बारे में बताते है कि वह भी पहले मुस्लिम थे और उनका नाम जफर शेख था। बाद में उनकी सनातन धर्म में वापसी हुई । बहरहाल चैतन्य राजपूत द्वारा विवाह की सहमति जताने के बाद दोनों मंदसौर पहुंचे और सारी आवश्यक प्रक्रियाएं पूरी की। बीते रोज गायत्री मंदिर में नाजनीन का मतांतरण कर हिदू धर्म ग्रहण कराया गया। यहां उन्हें नया नाम नैन्सी गौस्वामी दिया गया। इसके बाद दोनों अग्नि के सात फेरे लेकर सात जन्मों के अटूट बंधन में बंध गए। नैन्सी 19 साल की है। 9वीं तक पढ़ी है। दीपक की उम्र 22 वर्ष है। वह वाणिज्य में प्रथम वर्ष का छात्र है।

Updated : 2022-11-19T02:53:28+05:30
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top