Top
Home > एक्सक्लूसिव > बॉलीवुड की उजली राहों में नशे का अंधेरा

बॉलीवुड की उजली राहों में नशे का अंधेरा

विवेक पाठक

बॉलीवुड की उजली राहों में नशे का अंधेरा
X

सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच का मामला ड्रग्स कनेक्शन पर आकर उलझ गया है। सीबीआई की जांच के साथ एनसीबी ने जो जांच की है उसमें सुशांत, रिया के साथ फिल्मी सितारों के ड्रग्स कनेक्शन की बात सामने आ रही है। एक एक करके सारा अली खान, दीपिका पादुकोण और रकुलप्रीत सिंह जैसे नाम मीडिया की सुर्खियों में आ चुके हैं। एनसीबी ने ड्रग चैट्स से जुड़ी बातचीत से पूरे मामले पर पूछताछ शुरु कर दी है।

जो बॉलीवुड उड़़ता पंजाब फिल्म बनाकर पंजाब में नशे के कारोबार पर प्रहार कर रहा था वह सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद हो रही जांचों से चकरघिन्नी हो गया है। रोज नए नए खुलासे हो रहे हैं। पूरा मामला रिया के भाई शोबिक चक्रवर्ती से पूछताछ के बाद सामने आया जिसने एनसीबी के सामने स्वीकार कर लिया था कि उसकी बहन रिया चक्रवर्ती ड्रग्स का सेवन करती थी एवं वह ड्रग पैडलर के माध्यम से इन्हें रिया के लिए मंगाता था। रिया के साथ सुशांत सिंह राजपूत के भी ड्रग्स सेवन की बात सामने आयी है। खुद रिया ने इस बात का दावा किया था कि सुशांत सिंह राजपूत अपनी मर्जी के मालिक थे एवं वो गांजे का सेवन करते थे। अब तक एनसीबी के सामने जांच में रिया चक्रवर्ती कई अहम मामलों के सुराग दे चुकी है। एक एक करके उससे पूछताछ के बाद तथ्यों के तार जोड़े गए तो बात नामी फिल्मी सितारों तक पहुंच गयी है। एनसीबी ने दीपिका पादुकोण को तलब कर लिया है। वे अपनी वॉट्सअप चैट में कथित माल को लेकर सवालों के घेर में है। पूरी मीडिया इस मामले को काफी स्थान दे रही है। दीपिका का मामला तो राष्ट्रीय सुर्खी बन चुका है। इन खुलासों के बाद अब एनसीबी तेजी से बॉलीवुड एवं ड्रग पैडलरों के तारों को जोड़कर जांच को आगे बड़ा रहा है। लोगों को ध्यान इस बात पर है कि यह जांच किस दिशा में आगे बढ़ती है और किस निष्कर्ष पर पहुंचती है। यह जांच काफी कुछ तय करने वाली है। आखिर हम न भी चाहें तो भी सिनेमा के ये नायक नायिका हमारे समाज पर व्यापक प्रभाव डालते हैं।

वे क्या पहनते हैं, क्या खाते हैं, क्या पीते हैं, कैसे रहते हैं, कैसे उठते हैं, कैसे बैठते हैं सब कुछ हमारे युवा साथियों और बच्चांं पर बहुत असर डालता है। हिन्दी सिनेमा के पर्दे पर दिखने वाला लिव इन रिलेशन जैसा संबंध पहले सिनेमाई जगत में अपनाया जाता है फिर धीरे धीरे मेट्रो शहरों में यह दाखिल होता है। आज दिल्ली, मुंबई, बैंग्लोर, पुणे जैसे शहर लिव इन रिलेशनशिप के मामले में आगे हो गए हैं। इसी तरह जीवन यापन और रहन सहन सिने अभिनेता प्रभावित करते हैं। जब बालों में कौनसा शैम्पू और कौनसा हैल्थ डिं्रक ये सिने अभिनेता हमें बताते हैं, कौनसी कार, कौनसी बाईक ये भी हमें बताते हैं तो अनजाने में इनके जीवन के बहुत कुछ हिस्से हम अपनाते चले जाते हैं। ड्रग मामले में इन नायिकाओं के नाम आने से उनकी छवि खंडित हुई है और जांच के बाद इस पर निर्णायक रुप से कुछ कहा जाना बेहतर होगा तब तक यही उचित होगा कि इस मध्यान्तर में हम सिने लोक से बाहर निकलकर मन को समझा लें कि पर्दे के कलाकार पर्दे के नायक हैं असल जीवन के नहीं। वे पर्दे के बाद तमाम अच्छाइयों बुराइयों से घिरे हैं हमें उनको पूरा जीवन में उतारना कहीं से भी उचित नहीं होगा। सेना के जवान ,हमारे वैज्ञानिक और हमारे किसान ही हमारे नायक हैं जिन्हें हम हमेशा याद करते रहेंं यही सबसे अच्छा होगा।

Updated : 28 Sep 2020 10:03 AM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top