Top
Home > शिक्षा > कैरियर > 31 मई को यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा पर बना सस्पेंस, जानिए क्या होगा

31 मई को यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा पर बना सस्पेंस, जानिए क्या होगा

31 मई को यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा पर बना सस्पेंस, जानिए क्या होगा
X

नई दिल्ली। यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2020 का आयोजन 31 मई को होगा या नहीं, इस सवाल पर अभी भी सस्पेंस बरकरार है। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) यह साफ कर चुका है कि वह 3 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद इस संबंध में फैसला लेगा। लेकिन यह भी सच है कि आयोग इस परीक्षा को तय तिथि (31 मई) पर आयोजित करने के लिए लगातार तैयारियों में जुटा हुआ है। यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में हर वर्ष IAS, IPS, IFS, IRS बनने का ख्वाब संजोकर रखने वाले करीब 9 से 10 लाख युवा रजिस्ट्रेशन करवाते हैं और इनमें से 7 से 8 लाख युवा परीक्षा में बैठते हैं। इस वर्ष करीब 10 लाख उम्मीदवारों ने परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया है। लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण और लॉकडाउन की स्थिति ने उनकी तैयारियों व मकसद के आगे बाधा पैदा कर दी है। अगर यह परीक्षा होती है तो कोरोना वायरस महामारी फैलने और लॉकडाउन के बाद यह पहली बड़ी परीक्षा होगी।

यूपीएससी के सदस्य ने कहा, 'यह परीक्षा पूरे देश में आयोजित होती है और इसमें करीब 10 लाख लोगों ने आवेदन किया है। औसतन करीब 7 लाख उम्मीदवार परीक्षा में बैठेंगे। हम स्थिति को ध्यान में रखकर परीक्षा पर 3 मई के बाद फैसला करेंगे।'

यूपीएससी अधिकारी ने कहा कि हालांकि परीक्षा के आयोजन की तैयारी छह माह पहले ही शुरू हो गई थी। डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर्स और डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट ने परीक्षा केंद्रों की पहचान कर ली है। इनमें से ज्यादातर स्कूल हैं और कुछ कॉलेज हैं। लिस्ट में से करीब 2500 केंद्रों का चयन किया गया है। लेकिन लिस्ट में शामिल काफी स्कूलों को अब क्वारंटाइन केंद्रो में तब्दील कर दिया गया है। इसके अलावा आयोग को अभ्यर्थियों के एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने को लेकर भी सोचना होगा।

यूपीएससी ने आयोग, केंद्र व राज्य सरकारों से उन कर्मचारियों की भी पहचान कर ली है जिनकी ड्यूटी इस परीक्षा के आयोजन में लगेगी। करीब 1.6 लाख कर्मचारियों की मदद से इसका आयोजन होगा। हम आमतौर पर स्टेशनरी और आंसरशीट का कंसाइनमेंट परीक्षा से तीन माह पहले भेज देते हैं। लेकिन इस बार कंसाइनमेंट फंस गया है। यह इंडिया पोस्ट द्वारा डिलीवर किया जाता है। लेकिन अभी इंडिया पोस्ट जरूरी चीजों की आपूर्ति करने में लगा हुआ है। उन्होंने कहा, 'यहां तक कि आयोग को भी अभी कुछ सूझ नहीं रहा है कि क्या किया जाना चाहिए। हमें परीक्षा को टालने के लिए कई पत्र मिल रहे हैं।'

उन्होंने कहा कि परीक्षा के एडमिट कार्ड बिल्कुल तैयारी हैं। अगर हम चाहें तो उसे आज जारी कर सकते हैं। लेकिन बाद में हमें अभ्यर्थियों के परीक्षा केंद्र बदलने पड़ सकते हैं। पश्चिम बंगाल में स्कूल जून मध्य तक बंद हैं। हम वहां राज्य सरकार के सहयोग के बिना परीक्षा आयोजित नहीं कर सकते। परीक्षा को टालने के केस में एक दिक्कत यह भी है कि ऐसा होने पर अभ्यर्थियों को मेन्स एग्जाम की तैयारी में बहुत कम समय मिलेगा।

Updated : 21 April 2020 2:27 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top