Top
Home > अर्थव्यवस्था > शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद, सेंसेक्स 97 और 32 अंक फिसला निफ्टी

शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद, सेंसेक्स 97 और 32 अंक फिसला निफ्टी

शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद, सेंसेक्स 97 और 32 अंक फिसला निफ्टी

मुंबई। लद्दाख पर चीन के साथ झड़प में भारत के 20 जवान शहीद और चीन के भी 43 सैनिकों के मारे जाने, चीन से तनवा जैसी की खबरों के बीच आज शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 97.30 अंकों की गिरावट के साथ 33,507.92 के स्तर पर बंद हुआ वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 32.85 अंकों के नुकसान के साथ 9,881.15 के स्तर पर बंद हुआ।

मोरेटोरियम पर सुप्रीम कोर्ट में ब्याज माफी मामले की सुनवाई टलने और विचार करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक और वित्त मंत्रालय को समय मिलने की खबर के बाद शेयर बाजार में बैंक स्टॉक में तेजी देखने को मिल रही है। वहीं सेंसेक्स अब 222.47 अंकों की उछाल के साथ 33,827.69 के स्तर पर तो निफ्टी भी 59.95 अंकों की तेजी के साथ 9,973.95 के स्तर पर पहुंच गया है।

आज शेयर बाजार गिरावट के साथ खुले। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 166 अंकों की गिरावट के साथ 33438 के स्तर पर खुला। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी दिन के कारोबार की शुरुआत कमजोरी के साथ 9,876.70 के स्तर से की। इससे पहले मंगलवार को सेंसेक्स 376.42 अंकों की बढ़त के साथ 33,605.22 के स्तर पर बंद हुआ तो वहीं निफ्टी 100.30 अंक ऊपर 9,914.00 के स्तर पर।

बता दें मोरेटोरियम पर ब्याज माफी मामले की आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई है। रिजर्व बैंक और वित्त मंत्रालय अपना पक्ष रखेंगे। बैंक ब्याज माफी के हक में नहीं है। इसको लेकर भी बैंकों के शेयर दबाव में दिख रहे हैं। एक्सिस बैंक 0.62%, एचडीएफसी बैंक 0.80%, आईडीएफसी फर्स्ट, 1.00% नुकसान के साथ कारोबार कर रहे हैं। वहीं बैंक ऑ बड़ौदा, कोटक महिंद्रा, फेडरल बैंक, पीएनबी, ICICIBANK, एसबीआई, बंधन बैंक, इंडसइंड बैंक, आरबीएल भी लाल निशान पर हैं।वहीं LAC पर चीन के साथ झड़प में भारत के 20 जवान शहीद और चीन के भी 43 सैनिकों के घायल होने या मारे जाने की खबर के बाद चीन और भारत में बढ़ रहे तनाव को देखते हुए भी बाजार में कमजोरी दिख रही है।

सार्वजनिक क्षेत्र की हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लि. (एचपीसीएल) का शुद्ध लाभ 31 मार्च, 2020 को समाप्त तिमाही में 99 प्रतिशत घटकर 27 करोड़ रुपये रह गया। रिफाइनिंग मार्जिन कम होने और अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम में नरमी से पेट्रोलियम भंडार पर हुए नुकसान के कारण कंपनी का लाभ कम हुआ है। इससे पूर्व वित्त वर्ष 2018-19 की इसी तिमाही में कंपनी ने 2,970 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। एचपीसीएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक एम के सुराना ने संवाददाताओं से कहा, ''शुद्ध लाभ में कमी का मुख्य कारण पहले के बचे तेल भंडार पर नुकसान और विनिमय दर में उतार-चढ़ाव है।

Updated : 2020-06-17T18:25:04+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top