Top
Home > अर्थव्यवस्था > OPEC के इस फैसले से पेट्रोल -डीजल की कीमतों में हो सकती है बढ़ोत्तरी

OPEC के इस फैसले से पेट्रोल -डीजल की कीमतों में हो सकती है बढ़ोत्तरी

OPEC के इस फैसले से पेट्रोल -डीजल की कीमतों में हो सकती है बढ़ोत्तरी
X

नईदिल्ली / वेबडेस्क। तेल निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) और उसके सहयोगी तेल उत्पादक देशों ने क्रूड ऑयल (कच्चा तेल) के उत्पादन में जून महीने के दौरान भी कटौती जारी रखने का फैसला किया है। ओपेक और उसके सहयोगी देशों का ये फैसला कच्चे तेल की अपनी जरूरत पूरा करने के लिए अंतरराष्ट्रीय बाजार पर निर्भर रहने वाले भारत जैसे देशों के लिए काफी भारी पड़ने वाला है।

ओपेक और उसके सहयोगी देशों के फैसले के कारण अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमत में एक बार फिर तेजी का रुझान बनने लगा है। इस वजह से भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम में और भी बढ़ोतरी होने के आसार बन गए हैं। अभी भी भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमत रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुकी है। लेकिन जिस तरह से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, उससे भारत में पेट्रोल और डीजल कीमत में और बढ़ोतरी होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

70 डॉलर के पर हुई कीमत -

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत आज 70 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को पार कर गई है। जानकारों का कहना है कि जिस तरह से यूरोपीय देशों में पेट्रोलियम उत्पादों की मांग बढ़ी है, उससे कच्चे तेल की कीमत आने वाले कुछ दिनों में प्रति बैरल 73 डॉलर से भी अधिक हो सकती है। ऐसा होने पर भारत में भी पेट्रोल और डीजल के भाव में बढ़ोतरी हो सकती है।कमोडिटी एक्सपर्ट ज्ञानेश आहूजा का कहना है कि पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण ने कहर बरपाया था। इसकी वजह से अधिकांश देशों की अर्थव्यवस्था पूरी तरह ठप पड़ गई थी लेकिन अब जैसे जैसे कोरोना का कहर कम हो रहा है, वैसे वैसे तमाम देशों में पाबंदियां घटाई जा रही हैं और अर्थव्यवस्था खुलने लगी है। इसके कारण कच्चे तेल की मांग में बढ़ोतरी होने लगी है।

2 रुपये की बढ़ोतरी की उम्मीद -

जानकारों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार से जिस तरह के रुझान मिल रहे हैं उससे जून के महीने में भी पेट्रोल और डीजल की कीमत में प्रति लीटर करीब दो रुपये तक की बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। दरअसल कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोतरी होने के कारण भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमत रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई है। पिछले 1 साल की बात की जाए तो 2 जून 2020 को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल 40 डॉलर प्रति बैरल के हिसाब से ट्रेड कर रहा था। वहीं भारत की राजधानी नई दिल्ली में 2 जून 2020 को पेट्रोल 71.26 रुपये और डीजल 69.39 रुपये प्रति लीटर के भाव पर बिक रहा था। एक साल बाद यानी 2 जून 2021 को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल करीब 75 फीसदी महंगा होकर 70 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को पार कर गया है। वहीं भारत की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 1 साल में 23.23 रुपये महंगा होकर 94.49 रुपये और डीजल 15.99 रुपये महंगा होकर 85.38 रुपये प्रति लीटर के भाव पर पहुंच गया है।

Updated : 2021-06-02T19:04:52+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top