Home > अर्थव्यवस्था > अर्थवयवस्था के लिए अच्छी खबर, तीन हफ्ते बाद बढ़ा विदेशी मुद्रा भंडार, 2.7 अरब डॉलर की बढ़ोत्तरी

अर्थवयवस्था के लिए अच्छी खबर, तीन हफ्ते बाद बढ़ा विदेशी मुद्रा भंडार, 2.7 अरब डॉलर की बढ़ोत्तरी

अर्थवयवस्था के लिए अच्छी खबर, तीन हफ्ते बाद बढ़ा विदेशी मुद्रा भंडार, 2.7 अरब डॉलर की बढ़ोत्तरी
X

नईदिल्ली। अर्थव्यवस्था के र्मोचे पर अच्छी खबर है। विदेशी मुद्रा भंडार में पिछले तीन हफ्ते से जारी गिरावट पर ब्रेक लगा है। देश के विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार तीन हफ्ते की गिरावट के बाद 2.734 अरब डॉलर का इजाफा हुआ है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी है।

आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक विदेशी मुद्रा भंडार 24 जून को समाप्त हफ्ते में 2.734 अरब डॉलर उछलकर 593.323 अरब डॉलर पर पहुंच गया है। इससे पहले 17 जून को समाप्त हफ्ते में विदेशी मुद्रा भंडार 5.87 अरब डॉलर घटकर 590.588 अरब डॉलर रह गया था, जबकि इससे पिछले हफ्ते में यह 4.599 अरब डॉलर घटकर 596.458 अरब डॉलर रहा था। वहीं, 3 जून को विदेशी मुद्रा भंडार 30.6 करोड़ डॉलर घटकर 601.057 अरब डॉलर था।

रिजर्व बैंक के मुताबिक विदेशी मुद्रा भंडार में इस इजाफे की वजह विदेशी मुद्रा आस्तियों (एफसीए) का बढ़ना है, जो कुल मुद्रा भंडार का एक अहम हिस्सा होता है। इसके अलावा स्वर्ण आरक्षित भंडार के बढ़ने से भी विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी हुई है। आंकड़ों के अनुसार समीक्षाधीन हफ्ते में एफसीए 2.334 अरब डॉलर बढ़कर 529.216 अरब डॉलर हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक आलोच्य हफ्ते में स्वर्ण भंडार का मूल्य भी 34.2 करोड़ डॉलर बढ़कर 40.926 अरब डॉलर पर पहुंच गया। वहीं, समीक्षाधीन हफ्ते में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के पास जमा विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 5.5 करोड़ डॉलर बढ़कर 18.21 अरब डॉलर हो गया, जबकि आईएमएफ में रखे देश का मुद्रा भंडार भी 30 लाख डॉलर बढ़कर 4.97 अरब डॉलर हो गया है। उल्लेखनीय है कि डॉलर में अभिव्यक्त विदेशी मुद्रा भंडार में रखे जाने वाली विदेशी मुद्रा आस्तियों में यूरो, पौंड और येन जैसी गैर-अमेरिकी मुद्राओं में उनके मूल्यवृद्धि अथवा मूल्यह्रास के प्रभावों को भी शामिल किया जाता है।

Updated : 2022-07-05T13:36:00+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top