Home > देश > श्रीपद नाइक ने कहा - असम के सभी जिलों में स्थापित होंगे आयुष अस्पताल

श्रीपद नाइक ने कहा - असम के सभी जिलों में स्थापित होंगे आयुष अस्पताल

श्रीपद नाइक ने कहा - असम के सभी जिलों में स्थापित होंगे आयुष अस्पताल
X

गुवाहटी। राजधानी गुवाहाटी के जालुकबारी स्थित सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज में शनिवार को आयुर्वेद शास्त्र के आराध्य देवता तथा वैदिक चिकित्सा विज्ञान के जनक धन्वंतरि की प्रतिमा स्थापित की गई। आयुर्वेदिक कॉलेज के स्थापना के 70 वर्ष बाद इस वर्ष धन्वंतरि की प्रतिमा स्थापित की गई। साथ ही कॉलेज परिसर में एक महिला छात्रावास एवं कैंटीन का शिलान्यास भी किया गया। मुंबई सांडू फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड नामक एक आयुर्वेदिक मेडिसिन कंपनी के सहयोग से धन्वंतरि की प्रतिमा की स्थापना की गई।

उल्लेखनीय है कि सन 1948 में इस कॉलेज की स्थापना की गई वर्ष बाद धन्वंतरि की प्रतिमा स्थापित किया गया। आयुर्वेद के जनक तथा आयुर्वेदिक शास्त्र के आराध्य देवता को शिक्षार्थियों से परिचित कराने के उद्देश्य से सरकार की ओर से यह प्रयास किया गया। शनिवार को आयुर्वेदिक कालेज परिसर में प्रतिमा का अनावरण किया गया।

आयुष मंत्रालय के केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्रप्रभार) श्रीपद नाइक ने कहा कि भारत के विभिन्न राज्यों में भी धन्वंतरि की प्रतिमा को स्थापित किया जाएगा। इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि आयुष मिशन के द्वारा असम के प्रत्येक जिले में आयुष अस्पताल स्थापित किए जाएंगे। आयुर्वेद के प्रचार एवं प्रसार के लिए राज्य सरकार के साथ चर्चा कर विभिन्न प्रकार की योजनाओं केंद्रीय आयुष विभाग क्रियान्वित करने की योजना बना रहा है। उन्होंने कहा है आयुर्वेद का महत्व अपने आप में काफी अहम है। असम में अनेक औषधीय गुणों से युक्त पौधे हैं जो आयुर्वेद के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।

इस कार्यक्रम में असम सरकार के स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग के राज्य मंत्री पीयूष हजारिका ने कहा कि आयुर्वेद के प्रचार-प्रसार के लिए सरकार बीते दो वर्षों में कई प्रकल्पों को हाथ में लिया है। इस संदर्भ में राज्य के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल व स्वास्थ्य मंत्री डॉ हिमंत विश्वशर्मा ने कॉलेज के आधारभूत ढांचा के विकास के लिए तथा आयुर्वेद के प्रचार-प्रसार एवं शोध कार्य के लिए कॉलेज को 10 करोड़ रुपये मंजूर किया है, ताकि इस आयुर्वेदिक कॉलेज को देश का उन्नत आयुर्वेदिक कॉलेज के रूप में तब्दील किया जा सके।

इस संदर्भ में माई होम इंडिया नामक गैर सरकारी संस्था के संस्थापक सुनील देवधर ने प्रतिमा अनावरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि यह संस्था खोए हुए बच्चों को घर पहुंचाती है। उन्होंने इस संस्था की सहायता से असम के 200 बच्चों को अपने घर तक पहुंचाया हैं। और, पूरे भारत में 2000 बच्चों को उनके घर पहुंचाया है ।

इस मौके पर असम सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की सचिव तथा आयुष विभाग के संचालक मुकुल गोगोई, सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज के प्राचार्य भवेश दास, सांडू फार्मास्युटिकल लिमिटेड कंपनी के अध्यक्ष शशांक सांडू, उमेश सांडू के साथ कॉलेज के अध्यापक-अध्यापिकाएं, शोधकर्ता, चिकित्सक तथा छात्र छात्राएं उपस्थित थीं।

Updated : 2018-07-29T01:23:05+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top