Top
Home > देश > कच्चे तेल की कीमत को लेकर राहुल गाँधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

कच्चे तेल की कीमत को लेकर राहुल गाँधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

कच्चे तेल की कीमत को लेकर राहुल गाँधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कच्चे तेल की कीमत में ऐतिहासिक गिरावट के बाद मंगलवार को मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि इस स्थिति में भी पेट्रोल 69 रुपये और डीजल 62 रुपये प्रति लीटर बेचा जा रहा है। पेट्रोल-डीजल की कीमत कम करने की मांग पर सरकार क्यों ध्यान नहीं दे रही है।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि दुनिया में कच्चे तेल की क़ीमतें अप्रत्याशित आंकड़ों पे आ गिरी हैं, फिर भी हमारे देश में पेट्रोल 69 रुपये, डीजल 62 रुपये प्रति लीटर क्यों है? इस विपदा में जो दाम घटे, सो अच्छा। कब सुनेगी ये सरकार।

कोरोना वायरस की वजह से कच्चे तेल के दाम ऐतिहासिक निचले स्तर पर हैं। वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट (डब्लूटीआई) में फ्यूचर प्राइस पहली बार नेगेटिव में पहुंच गया है यानी प्रोड्यूसर उल्टे खरीदार को तेल ले जाने के पैसे देंगे। 1983 के बाद पहली बार ऑइल फ्यूचर प्राइस नेगेटिव हुआ है। 1983 में न्यू यॉर्क मर्केंटाइल एक्सचेंज ने ऑइल फ्यूचर की ट्रेडिंग शुरू की थी तब से पहली बार तेल की कीमत शून्य के नीचे पहुंची है। यह ऐसी स्थिति है जिसकी कल्पना तक नहीं की जा सकती थी।

कच्चे तेल के भाव में जब एक डॉलर की कमी आती है तो भारत के आयात बिल में करीब 29000 करोड़ डॉलर की कमी आती है। यानी 10 डॉलर की कमी आने से 2 लाख 90 हजार डॉलर की बचत। सरकार को इतनी बचत होगी तो जाहिर है पेट्रोल-डीजल और अन्य फ्यूल के दाम पर असर पड़ेगा।

Updated : 21 April 2020 3:00 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top