Home > देश > विश्व को स्वस्थ और बेहतर बनाने में मददगार होंगे बौद्ध सिद्धांत : राष्ट्रपति

विश्व को स्वस्थ और बेहतर बनाने में मददगार होंगे बौद्ध सिद्धांत : राष्ट्रपति

विश्व को स्वस्थ और बेहतर बनाने में मददगार होंगे बौद्ध सिद्धांत : राष्ट्रपति
X

नईदिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने कहा कि वैश्विक मुद्दों का समाधान खोजने में बौद्ध मूल्यों और सिद्धांतों का इस्तेमाल दुनिया को स्वस्थ और बेहतर स्थान बनाने में मददगार होगा। वे शनिवार को एक वीडियो संदेश के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ द्वारा आयोजित वार्षिक आषाढ़ पूर्णिमा-धर्म चक्र दिवस को संबोधित कर रहे थे।

राष्ट्रपति कोविन्द ने बुद्ध की शिक्षाओं की अलग-अलग व्याख्याओं और विविधताओं के फेर में नहीं पढ़ने की सलाह देते हुए कहा कि बुद्ध की शिक्षाओं के सार का अनुसरण महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में अंतरराष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के उद्देश्य प्रशंसनीय हैं। उन्होंने मानवता की सेवा के लिए सभी बौद्ध परंपराओं और संगठनों को साझा मंच प्रदान करने के आईबीसी के प्रयास की भी प्रशंसा की।

बौद्ध धर्म की अपील -

राष्ट्रपति ने कहा कि उनका मानना है कि औपचारिक रूप से बौद्ध धर्म की अपील लगभग 550 मिलियन धर्म के अनुयायियों को दी गई है। अन्य धर्मों के लोग और यहां तक कि संशयवादी और नास्तिक भी बुद्ध की शिक्षाओं के प्रति आकर्षित महसूस करते हैं। बौद्ध धर्म की यह सार्वभौमिक और शाश्वत अपील समय और स्थान पर मानव द्वारा सामना की जाने वाली मूलभूत समस्याओं के तार्किक, तर्कसंगत और सरल उत्तरों के कारण है। उन्होंने कहा कि दुख को समाप्त करने का बुद्ध का आश्वासन, सार्वभौमिक करुणा और अहिंसा पर उनका जोर, जीवन के सभी पहलुओं में नैतिकता और संयम को आगे बढ़ाने के उनके संदेश ने पिछले 2600 वर्षों में अनगिनत लोगों को सारनाथ में उनके पहले उपदेश के बाद से प्रेरित किया है।

मानवता के लिए अमूल्य संदेश -

राष्ट्रपति ने कहा कि बुद्ध के जीवन में मानवता के लिए अमूल्य संदेश हैं। भगवान बुद्ध को अपने आलोचकों और विरोधियों के बीच भी बहुत भरोसा और सम्मान था। उन्होंने यह आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त की थी क्योंकि वे सत्य के पालन में दृढ़ रहे। राष्ट्रपति ने कहा कि कोरोना के प्रभाव से जूझ रही दुनिया को पहले से कहीं ज्यादा करुणा, दया और निस्वार्थता के उपचार की जरूरत है। बौद्ध धर्म द्वारा प्रचारित इन सार्वभौमिक मूल्यों को सभी को अपने विचारों और कार्यों में अपनाने की आवश्यकता है।

Updated : 24 July 2021 7:25 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top