Home > देश > 370 की बहाली की लड़ाई जारी रहेगी,पहले राज्य का दर्जा फिर चुनाव : उमर अब्दुल्ला

370 की बहाली की लड़ाई जारी रहेगी,पहले राज्य का दर्जा फिर चुनाव : उमर अब्दुल्ला

370 की बहाली की लड़ाई जारी रहेगी,पहले राज्य का दर्जा फिर चुनाव : उमर अब्दुल्ला
X

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर मुद्दे पर प्रधानमंत्री के साथ हुई सर्वदलीय बैठक के बाद नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने बड़ा बयान दिया है। उमर ने कहा की बैठक में गुपकार गठबंधन के एजेंडे के बाहर की कोई बात नहीं हुई। उन्होंने कहा की अनुच्छेद 370 की बहाली की लड़ाई जारी रहेगी।

पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल्ला ने कहा हमें वहां अलायंस के तौर पर नहीं बुलाया गया था। अगर बुलाया गया होता तो अलायंस की तरफ से एक को ही बुलाया गया होता। वहां पार्टीयों को दावत दी गई। गुपकार अलायंस के सदस्यों ने बैठक में हिस्सा लिया लेकिन ऐसी कोई बात नहीं की जो अलायंस के एजेंडे से बाहर हो। उन्होंने कहा वहां किसी ने प्रधानमंत्री से नहीं कहा कि हम 5 अगस्त कबूल करते हैं। हमने कहा कि हम इससे नाराज हैं। प्रधानमंत्री से महबूबा मुफ्ती और फारुख अब्दुल्ला ने साफ कहा कि भाजपा को 370 हटाने का एजेंडा कामयाब कराने में 70 साल लगे। हमें 70 महीने लगेंगे तो भी हम अपने मिशन से पीछे नहीं हटेंगे।

सरकारी की टाइमलाइन नामंजूर -

उन्होंने आगे कहा की कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने हम सभी की ओर से प्रधानमंत्री से चर्चा की। सरकार द्वारा दी गई टाइमलाइन पहले परिसीमन, फिर चुनाव आखिर में राज्य का दर्जा हमें स्वीकार नहीं है। हमें पहले परिसीमन, फिर राज्य का दर्जा और आखिर में चुनाव चाहिए। यदि सरकार चुनाव कराना ही चाहती है , तो पहले का दर्जा लौटा दीजिए। उसके बाद हम चुनाव पर बात करेंगे।

हालात बेहतर बनाए जाएं -

वहीँ नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूख अब्दुल्ला ने कहा की प्रधानमंत्री से मुलाकात बहुत अच्छी रही। सभी पार्टियों ने अपनी बात उनके सामने रखा। उनकी तरफ से ये पहला कदम था कि किसी भी तरीके से जम्मू-कश्मीर के हालात बेहतर बनाए जाएं और एक सियासी दौर शुरू किया जाए। जब तक मैं अपनी जमात से बात नहीं कर लेता कुछ कह नहीं सकता।

Updated : 26 Jun 2021 10:18 AM GMT
Tags:    

Prashant Parihar

पत्रकार प्रशांत सिंह राष्ट्रीय - राज्य की खबरों की छोटी-बड़ी हलचलों पर लगातार निगाह रखने का प्रभार संभालने के साथ ही ट्रेंडिंग विषयों को भी बखूभी कवर करते हैं। राजनीतिक हलचलों पर पैनी निगाह रखने वाले प्रशांत विभिन्न विषयों पर रिपोर्टें भी तैयार करते हैं। वैसे तो बॉलीवुड से जुड़े विषयों पर उनकी विशेष रुचि है लेकिन राजनीतिक और अपराध से जुड़ी खबरों को कवर करना उन्हें पसंद है।  


Next Story
Share it
Top