Top
Home > देश > डॉक्टर्स को किसी की जाति-धर्म को नहीं देखना चाहिए : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

डॉक्टर्स को किसी की जाति-धर्म को नहीं देखना चाहिए : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

डॉक्टर्स को किसी की जाति-धर्म को नहीं देखना चाहिए : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

दिल्ली/जोधपुर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि डॉक्टर्स को किसी की जाति-धर्म नहीं देखना है। हर मरीज को साथी समझ कर इलाज करना चाहिए। एम्स में मिल रही तकनीक को अपनाना है। वे शनिवार को यहां जोधपुर भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) चिकित्सालय में आयोजित दूसरे दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे।

राष्ट्रपति ने कहा कि दिल्ली के बाद जोधपुर एम्स का नाम आता है जहां पर संपूर्ण तकनीकों के साथ सुविधाएं मौजूद हैं। पहले लोग इलाज के लिए मुंबई और अहमदाबाद जाते थे मगर जोधपुर एम्स में ही सारी सुविधाएं और अच्छे डॉक्टर्स होने से लोगों का इसका फायदा लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि जोधपुर एम्स में सारी स्कीमें हैं और लोगों को इसका फायदा लेना चाहिए। आने वाले दिनों में जोधपुर एम्स दिल्ली के एम्स को पीछे छोड़ सकता है यहां मिल रही सुविधाएं व तकनीकें कारगर हैं। गांवों में रहने वालों काे अच्छी मेडिकल की सुविधाएं मिलनी चाहिए।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस अवसर पर केंद्रीय चिकित्सा मंत्री हर्षवर्धन का धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने उनका हर प्रस्ताव स्वीकार करते हुए एम्स में सुविधाएं प्रदान कीं। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी, स्व. सुषमा स्वराज का भी धन्यवाद दिया कि उनकी बदौलत आज जोधपुर में एम्स का नाम हुआ है।

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन सिंह ने कहा कि आज वे अपने छात्र जीवन का याद करते हैं, जिन्होंने उन्हें चिकित्सक बनाया। उन्होंने चिकित्सकों से शपथ को औपचाकरिता पूर्वक नहीं लेने की बात कही।

Updated : 7 Dec 2019 9:15 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top