Top
Home > Archived > अब कुलियों के गणवेश पर होगा विज्ञापन का इस्तेमाल

अब कुलियों के गणवेश पर होगा विज्ञापन का इस्तेमाल

अब कुलियों के गणवेश पर होगा विज्ञापन का इस्तेमाल

एनसीआर ने मांगा प्रस्ताव

-File Photo

ग्वालियर। रेलवे ने यात्रियों पर किराये का ज्यादा बोझ न डालने के साथ कमाई के लिए एक और नया रास्ता खोज निकाला है। अब रेलवे खिलाड़ियों की तर्ज पर कुलियों और पोर्टर के गणवेश का इस्तेमाल विज्ञापन के लिए करेगा। उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) जोन के इलाहाबाद समेत सभी प्रमुख स्टेशनों पर शीघ्र ही कुली और पोर्टर अपनी वर्दी के जरिए विज्ञापन करते नजर आएंगे।

वहीं इस मामले में रेलवे बोर्ड की ओर से इस आशय का पत्र सभी जोनल रेलवे को जारी किया गया है। इतना ही नहीं जोन के प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर लगे एनाउंसमेंट सिस्टम से भी विज्ञापन का प्रसारण होगा। वर्ष 2014 से अब तक समय-समय पर मालभाड़े के साथ यात्री किराये में बढ़ोतरी की गई है। इसी दौरान राजधानी, शताब्दी श्रेणी की ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर सिस्टम भी लागू किया गया। आम लोगों के साथ तमाम राजनैतिक दलों द्वारा किए जा रहे विरोध को देखते हुए आय बढ़ाने के लिए रेलवे ने यात्री किराया एवं मालभाड़े में बढ़ोतरी नहीं करते हुए विज्ञापनों के जरिए अपनी झोली भरने की तैयारी की है। रेलवे ने कुलियों की ड्रेस पर विज्ञापन छाप कर कमाई करने की दिशा में काम शुरू किया है।

इन स्टेशनों के कुलियों के गणवेश पर होगा विज्ञापन

उत्तर मध्य रेलवे के इलाहाबाद, कानपुर, अलीगढ़, झांसी, मथुरा, आगरा, मिर्जापुर, ग्वालियर, इटावा आदि बड़े स्टेशनों पर कुलियों एवं पोर्टरों की वर्दी पर विज्ञापन से कमाई होगी। रेलवे की ओर से ही कुलियों को वर्दी उपलब्ध कराई जाएगी। प्रयोग सफल रहा तो रेलवे रनिंग स्टाफ की वर्दी पर भी विज्ञापन छापेगा।

Updated : 2018-03-14T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top