Top
Home > Archived > सौर ऊर्जा से जगमगा रहे 341 क्रासिंग गेट

सौर ऊर्जा से जगमगा रहे 341 क्रासिंग गेट

सौर ऊर्जा से जगमगा रहे 341 क्रासिंग गेट
X

सोलर बिजली का उत्पादन बढ़ाकर 11 मेगावाट करेगा रेलवे


ग्वालियर,न.सं.। उत्तर मध्य रेलवे प्रशासन सोलर पैनल से बिजली का उत्पादन 11 मेगावाट से भी अधिक करने की तैयारी कर रहा है। फिलहाल जोनल रेलवे में 7.7 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा है। जोनल रेलवे अभी रोजाना 28,490 यूनिट बिजली का रोजाना उत्पादन कर रहा है। यानी साल में 1,03,98,850 यूनिट बिजली बनाकर जोनल रेलवे बिजली खर्च में छह करोड़ रुपये बचा रहा है।

उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक एमसी चौहान ने बिजली खर्च में बचत और बढ़ाने की तैयारी की है। इसके लिए सौर बिजली का उत्पादन बढ़ाकर 11.12 मेगावाट करने का निर्देश दिया है। इसके लिए स्टेशनों, कार्यालयों की छतों पर सोलर पैनल और बढ़ाने की तैयारी की गई है। रेलवे ने 341 समपार फाटकों पर भी सौर ऊर्जा संयंत्र लगाए हैं। बिजली बचाने के लिए महाप्रबंधक ने जोन के बचे 100 और स्टेशनों पर एलईडी लाइटें लगाने को कहा है। हरित ऊर्जा बढ़ाने और बिजली बचाने के अभियान के तहत जोनल रेलवे ने 405 में से 305 स्टेशनों पर एलईडी लाइटें लगा ली हैं। ऊर्जा बचत के लिए ही रेलवे ने हाल में ईईएसएल के साथ एक समझौता भी किया है।

128490 यूनिट बिजली का उत्पादन प्रतिदिन

महाप्रबंधक एमसी चौहान ने बताया कि एक एमडब्ल्यूपी की क्षमता वाले सौर संयंत्र से प्रतिदिन औसतन 3700 यूनिट बिजली पैदा की जा सकती है। इस प्रकार एनसीआर में पहले से स्थापित सौर ऊर्जा संयंत्रों के माध्यम से 28490 यूनिट बिजली का उत्पादन प्रतिदिन किया जा रहा है। यदि इस आंकड़े को 365 से गुणा कर दिया जाए तो बचत का आंकड़ा 1,03,98,850 यूनिट प्रतिवर्ष होता है।

Updated : 2018-03-14T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top