Top
Home > Archived > ब्रिटेन के स्कूल में हिजाब और रोजा पर कड़ा रुख अपनाने की मांग

ब्रिटेन के स्कूल में हिजाब और रोजा पर कड़ा रुख अपनाने की मांग

ब्रिटेन के स्कूल में हिजाब और रोजा पर कड़ा रुख अपनाने की मांग

लंदन। ब्रिटेन के प्रमुख स्कूलों में से एक स्कूल ने सरकार से बच्चों के हिजाब पहनने और रमजान के दौरान रोजा रखने पर कड़ा रुख अपनाने की मांग की है। यह जानकारी सोमवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।

विदित हो कि सेंट स्टीफेंस स्कूल ब्रिटेन सरकार के कोष से चलता है और वहां के बड़े स्कूलों में से एक है। इस स्कूल में ज्यादातर भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान के ब्रटिश नागरिकों के बच्चे पढ़ते हैं। पूर्वी लंदन के न्यूहैम स्थित यह स्कूल देश में ऐसा पहला स्कूल बन गया था जिसने वर्ष 2016 में आठ साल तक की लड़कियों के हिजाब पहनने पर रोक लगा दी थी। अब यह स्कूल सितंबर, 2018 से इसे 11 वर्ष तक की लड़कियों के लिए प्रतिबंधित लगाने की तैयारी में है।

स्कूल ने अपने परिसर में रमजान के दौरान रोजा रखने पर भी कड़ा नियम लागू किया है। लेकिन छुट्टी के दौरान ही बच्चे रोजा रख सकते हैं। उल्लेखनीय है कि भारतीय मूल की प्रधानाध्यापिका नीना लाल करती हैं। स्कूल चाहता है कि माता पिता की विरोधात्मक प्रतिक्रिया को रोकने के लिये सरकार स्पष्ट दिशानिर्देश जारी करे। स्टीफेंस स्कूल में गवर्नरों के अध्यक्ष आरिफ कवी ने समाचार पत्र ‘द संडे टाइम्स’ को बताया कि विभाग को इस संबंध में आगे बढ़ना चाहिए और हर स्कूल को यह बताना चाहिए कि इसे (रोजा) कैसा किया जाए। यही चीज हिजाब के लिए भी हो।

Updated : 2018-01-17T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top