Home > Archived > पीएमटी की छात्रा ने किले से कूदकर की आत्महत्या

पीएमटी की छात्रा ने किले से कूदकर की आत्महत्या

पीएमटी की छात्रा ने किले से कूदकर की आत्महत्या
X

-गूजरी महल के पास पड़ा मिला शव, सुसाइड नोट बरामद
ग्वालियर। पीएमटी की तैयारी कर रही छात्रा ने किले से कूदकर आत्महत्या कर ली। इसकी सूचना मिलते ही फोरेंसिक एक्सपर्ट के साथ पुलिस मौके पर पहुंच गई। आत्महत्या का कारण परिजनों द्वारा शंका करने से आहत होना बताया गया है। पुलिस को मृत छात्रा के पास सुसाइड नोट मिला है।

मूलत: इन्दरगढ़ जिला दतिया की रहने वाली डौली पुत्री कैलाश श्रोत्रिय उम्र 20 वर्ष थाटीपुर स्थित दर्पण कॉलोनी में परिवार के साथ रहकर पीएमटी की तैयारी कर रही थी। डौली सोमवार को दोपहर में किले पर पहुंच गई, जहां उसने आत्महत्या करने के लिए किले से छलांग लगा दी। लगभग डेढ़ सौ फुट की ऊंचाई से छलांग लगाते ही डौली की मौत हो गई। डौली का शव गूजरी महल के पास घास में पड़ा मिला। घटना का पता चलते ही थाना प्रभारी राघवेन्द्र तोमर और फोरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. ढींगरा मौके पर पहुंच गए। बताया गया है कि डौली के चेहरे पर चोटों के अलावा उसका हाथ और पैर टूट गया था। डौली के पास से पुलिस को सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने लिखा है कि उस पर मम्मी बेवजह शक करती हैं, जो कि गलत है। मैंने सब कुछ छोड़ दिया है फिर भी आपने नहीं माना। पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचन प्रारंभ कर दी है।

मोबाइल व गाड़ी सब छीन लिया था?

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार डौली से उसके परिजनों ने मोबाइल और गाड़ी वापस ले ली थी। डौली फूलबाग स्थित कोचिंग और एमएलबी महाविद्यालय में टेम्पो से पढ़ने के लिए जाती थी।

बारह घंटे बाद लौटती थी घर

मृत छात्रा के भाई शिवम ने बताया कि डौली सुबह सात बजे घर से कोचिंग पढ़ने के लिए निकलती थी और शाम को सात बजे ही वापस घर लौटती थी। सोमवार को भी डौली सुबह सात बजे हर रोज की तरह निकली थी। उस समय वह सामान्य थी।

किले पर छोड़ा बैग

दोपहर बारह बजे के करीब डौली किले पर पहुंच गई थी, जहां उसने अपना बैग किले के ऊपर ही छोड़ा और फिर छलांग लगा दी। पुलिस को किले पर डौली का बैग रखा हुआ मिला है। बैग में किताबों सहित अन्य सामान रखा हुआ था।

जब थाना प्रभारी हुए भावुक

बेटी के आत्महत्या करने का पता चलते ही मां सगुनदेवी, बहन सपना, भाई शिवम सहित अन्य रिश्तेदार घटना स्थल पर पहुंच गए। मां और बहन का रो-रोकर बुरा हाल था। उनको यकीन नहीं हो रहा था कि उनकी डौली आत्महत्या कर सकती है। थाना प्रभारी ने रोते-बिलखते मां-बहन और भाई को समझाते हुए कहा कि डौली के पास से सुसाइड नोट मिला है। परिजनों की जिद पर राघवेन्द्र तोमर ने जब सुसाइड नोट पढ़ना शुरू किया तो वह भावुक हो गए और सुसाइड नोट को उन्होंने अधूरा ही छोड़ दिया। स्टाफ ने थाना प्रभारी को सांत्वना देते हुए भावुक पल को थोड़ा हल्का किया।

सबकी लाड़ली थी डौली

बताया गया है कि डौली के पिता कैलाश गांव में रहकर खेती करते हैं, जबकि अन्य परिजन दर्पण कॉलोनी में पाराशर के मकान में किराए रहते हैं। डौली की बहन सपना का विवाह हो चुका है, जबकि भाई शिवम पढ़ाई कर रहा है।

इनका कहना है

‘‘पीएमटी की तैयारी करने वाली छात्रा ने किले से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली है। पुलिस को उसके बैग से सुसाइड नोट मिला है। पुलिस आत्महत्या के कारणों की पतारसी कर रही है।’’

राघवेन्द्र तोमर, बहोड़ापुर थाना प्रभारी

Updated : 2017-09-26T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top