Top
Home > Archived > अब शहर में दो घण्टे से अधिक नहीं मिलेगा बोरिंग का पानी

अब शहर में दो घण्टे से अधिक नहीं मिलेगा बोरिंग का पानी

अब शहर में दो घण्टे से अधिक नहीं मिलेगा बोरिंग का पानी

-लीकेज की सूची नहीं देने पर चार अधिकारियों को नोटिस, ज्यादा आपूर्ति की तो नपेंगे इंजीनियर
-जरूरत पड़ने पर निजी बोरिंगों से हो सकती है पानी की आपूर्ति
ग्वालियर। शहर में पानी की कमी को देखते हुए यह सुनिश्चित करें कि प्रत्येक नलकूप से दो घंटे ही पानी सप्लाई हो। यदि इससे अधिक कहीं पानी की सप्लाई पाई जाती है तो संबंधित इंजीनियर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। यह निर्देश सोमवार को नगर निगम मुख्यालय में आयोजित समय-सीमा बैठक में निगमायुक्त विनोद शर्मा ने सभी अधिकारियों को दिए।

निगमायुक्त ने कहा कि सभी क्षेत्राधिकारी अपने अपने क्षेत्र में स्थित सभी स्वीमिंग पूलों को बंद कराने के लिए नोटिस जारी करें। शहर में कहीं भी तराई, धुलाई आदि में पानी की बर्बादी न हो। इसके साथ ही पानी की टंकियां ओवरफलो न हों तथा सभी सब इंजीनियर अपने अपने क्षेत्र के पम्प चालकों की बैठक लेकर सभी को निर्देश दें।

बैठक में निगमायुक्त श्री शर्मा ने सभी सहायक स्वास्थ्य अधिकारियों से जानकारी ली कि उन्हें उनके क्षेत्र में लीकेज की सूची तैयार कर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन अभी तक किसी के द्वारा भी सूची उपलब्ध न कराए जाने पर निगमायुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुए चारों सहायक स्वास्थ्य अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। श्री शर्मा ने सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि सभी अधिकारी जल सकंट को देखते हुए अपनी कमर कस लें और यह देखें कि कहीं भी पानी की बर्बादी न हो। इसी के साथ ही अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में निजी नलकूपों की सूची बनाएं तथा उनमें से कौन से अधिग्रहीत किए जा सकते हैं, उनकी भी सूची तैयार करें, जिससे आवश्यकता पड़ने पर उनका उपयोग जनता के लिए किया जा सके। निगमायुक्त श्री शर्मा ने संबधित अधिकारियों को निर्देश दिए गए मुरार नदी में चार स्थानों पर बोरी बंधान लगाकर पानी रोकने की व्यवस्था तत्काल करें। इसके साथ ही हनुमान बांध में पानी रोकने की व्यवस्था करना है तो संबंधित क्षेत्राधिकारी 15 से 20 कर्मचारियों का दल बनाकर वहां निगरानी रखें कि कोई पानी खोले नहीं।

निगमायुक्त ने यह निर्देश भी दिए बैठक में

-स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के लिए सभी को मिलकर कार्य करना होगा।
-सीएम हेल्पलाइन को गंभीरता से न लेने पर होगी कार्यवाही।
-गणेश झांकियों का क्षेत्रीय कार्यालयवार करें पंजीयन।
-बैठक में अपर आयुक्त रिंकेश वैश्य ने सम्पत्तिकर वसूली की समीक्षा की तथा वार्ड वार वसूली की प्रति के बारे में जानकारी ली।


होटल टूरिस्ट के पांच कमरे हुए सील

पड़ाव स्थित टूरिस्ट होटल पर बगैर आवंटन के रिक्त पांच कमरों का होटल संचालक व्यावसायिक उपयोग कर रहा था, जिसे सोमवार को नगर निगम के अमले द्वारा खाली कराकर सील किया गया। नगर निगम द्वारा प्रमोटर स्कीम के तहत क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक छह के अंतर्गत पड़ाव पर निर्मित शॉपिंग कॉम्प्लेक्स के प्रथम तल पर बगैर आवंटन कराए पांच कमरों पर प्रमोटर केशव सिंघल द्वारा व्यवसायिक उपयोग करने से संबंधित शिकायत लोकायुक्त भोपाल को की गई थी। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए सहायक आयुक्त शैलेश अवस्थी ने मौके पर पहुंचकर सभी कमरों से सामान खाली करवाकर कमरों को सील कर दिया।

Updated : 2017-08-29T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top