Top
Home > Archived > बस आॅपरेटर रूट का एक प्लान तीन दिन में तैयार कर दें

बस आॅपरेटर रूट का एक प्लान तीन दिन में तैयार कर दें

बस आॅपरेटर रूट का एक प्लान तीन दिन में तैयार कर दें

आॅपरेटरों को हर तरह की सुविधायें उपलब्ध होंगी, सिटी बस आॅपरेटरों के साथ बैठक सम्पन्न


ग्वालियर। स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर के भीतर एवं प्रदेश व प्रदेश के बाहर के शहरों में अत्याधुनिक बसें चलाई जाएंगी। शहर के सिटी बस आॅपरेटरों को बस चलाने के लिये सिटी बस कंपनी हर तरह की सुविधायें मुहैया कराएगी। बस आॅपरेटरों को सरकार की ओर से 40 प्रतिशत तक अनुदान भी उपलब्ध कराया जायेगा।

सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा ने सिटी ट्रांसपोर्ट से जुड़े बस आॅपरेटरों की बैठक में यह बात कही। बैठक में शहरी विकास विभाग के कंसलटेंट परीजात जैन, स्मार्ट सिटी की मुख्य कार्यपालन अधिकारी विदिशा मुखर्जी सहित विभागीय अधिकारी और बस आॅपरेटर उपस्थित थे।

नगर निगम आयुक्त ने कहा कि सिटी बस ट्रांसपोर्ट कंपनी द्वारा शहर के अंदर और प्रदेश व प्रदेश के बाहर बस चलाने के लिये बस आॅपरेटरों को सभी प्रकार की सुविधायें मुहैया करायेगा। बस आॅपरेटर आपसी सलाह कर रूट का एक प्लान तीन दिन में तैयार कर प्रस्तुत करें। बस आॅपरेटरों द्वारा दिए गए रूट प्लान पर ही सिटी बस ट्रांसपोर्ट कंपनी विचार-विमर्श कर कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा कि सिटी बस के लिये सरकार द्वारा पृथक से बस स्टेण्ड, बस स्टॉप की व्यवस्था की जायेगी। सिटी बस के माध्यम से बस आॅपरेटर अधिक से अधिक आय अर्जित कर सकें, इसके लिये सरकार द्वारा अनेक प्रावधान किए गए हैं। बस आॅपरेटर अपनी बस पर विज्ञापन भी कर सकेंगे। इस विज्ञापन की राशि का बड़ा हिस्सा बस मालिकों को प्राप्त होगा।

बसों में होगा जीपीएस सिस्टम लागू

सिटी ट्रांसपोर्ट के तहत इलेक्ट्रोनिक टिकिट सिस्टम, जीपीएस सिस्टम लागू किया जायेगा। महाराज बाड़े पर कंट्रोल कमाण्ड सिस्टम से भी सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विस जुड़ी रहेगी। सिटी ट्रांसपोर्ट सेवा को क्लस्टर में विभाजित कर क्रियान्वित किया जायेगा।

सात साल का होगा अनुबंध

नगरीय विकास विभाग भोपाल से आए कंसलटेंट परीजात जैन ने बस आॅपरेटरों को बताया कि सभी बस आॅपरेटरों से 7 साल का अनुबंध किया जायेगा। बस आॅपरेटरों की सलाह पर बस रूट को घटाया-बढ़ाया और बदला जा सकेगा। नए रूट पर बस चलाने का अधिकार पहले आओ-पहले पाओ की तर्ज पर रहेगा। उन्होंने बताया कि बस आॅपरेटरों को सुरक्षा प्रदान करने का कार्य भी कंपनी द्वारा किया जायेगा। बैठक में स्मार्ट सिटी की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती मुखर्जी ने सिटी ट्रांसपोर्ट की अवधारणा और बस आॅपरेटरों के लिये दी जाने वाली सुविधाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।

महाराजा मान सिंह प्रतिमा को स्थानांतरित किया जाएगा

शहर के मानसिंह चौराहे पर रेलवे ओवरब्रिज बन जाने से यातायात को और बेहतर बनाया जा सकेगा। रेलवे ओवरब्रिज के कारण महाराजा मानसिंह की प्रतिमा को अन्य स्थान पर स्थानांतरित किया जायेगा। नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा ने सोमवार को पुलिस कॉपोर्रेशन के अधिकारियों और निगम अधिकारियों के साथ चौराहे का निरीक्षण कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि चौराहे पर हरियाली और विद्युत सजावट का प्रावधान भी रखा जाए।

Updated : 2017-07-18T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top