Top
Home > Archived > अमेजॉन से आगे निकली फ्लिपकार्ट

अमेजॉन से आगे निकली फ्लिपकार्ट

अमेजॉन से आगे निकली फ्लिपकार्ट

नई दिल्ली| अमेजॉन भारत में फ्लिपकार्ट जितने ही सामान बेच रही है, लेकिन देश की सबसे बड़ी आॅनलाइन रिटेल कंपनी फ्लिपकार्ट आमदनी के मामले में इस अमरीकी कंपनी से आगे है। वहीं, अलीबाबा के निवेश वाले पेटीएम मॉल और शॉपक्लूज के बीच तीसरे नंबर के लिए कड़ा मुकाबला है। स्नैपडील में जापान के सॉफ्टबैंक का निवेश है और वह पहले देश की तीसरी बड़ी आॅनलाइन रिटेलर थी। हालांकि, स्नैपडील अभी पांचवें नंबर पर आ गई है। इससे भारतीय आॅनलाइन रिटेल इंडस्ट्री में चल रही उथलपुथल का पता चलता है। मार्च में मार्कीट लीडर फ्लिपकार्ट की शिपमेंट्स रोजाना 5 लाख रही, जबकि अमेजॉन की अमेजॉन की शिपमेंट 4.5 लाख।

सूत्रों ने बताया कि स्नैपडील का वॉल्यूम मार्च 2016 में रोजाना 1.5 लाख था, जो अब घटकर 30,000 रोजाना रह गया है। शिपमेंट में रिटर्न किए जाने वाले सामान भी शामिल हैं। सूत्रों ने बताया, फ्लिपकार्ट ग्रॉस सेल्स के मामले में अमेजॉन से आगे बनी हुई है। इनवेस्टर्स और एनालिस्टों का अनुमान है कि फ्लिपकार्ट की एनुअलाइज्ड ग्रॉस मर्चेंडाइज वैल्यू (जी.एम.वी.) 4 अरब डॉलर से कुछ अधिक होगी, वहीं कंपनी के करीबी सूत्रों का कहना है कि मार्च 2017 के अंत तक कंपनी की ग्रॉस सेल्स 6 अरब डॉलर पहुंच गई थी। जी.एम.वी. का मतलब प्लैटफॉर्म पर बिकने वाले सामान की कुल कीमत है। अमेजॉन की सालाना जी.एम.वी. 3.2 अरब डॉलर से कुछ अधिक रहने का अनुमान है।

आॅनलाइन मार्कीटप्लेस आमतौर पर कैटिगरी के हिसाब से हर बिकने वाले सामान पर 5 से 15 पर्सेंट का कमीशन लेते हैं। अमेजॉन इंडिया के एक प्रतिनिधि ने ईमेल से दिए जवाब में कहा, बड़े साइज के बावजूद हम अच्छी ग्रोथ हासिल कर रहे हैं। इस साल की पहली तिमाही में हमारी ग्रोथ 85 पर्सेंट रही है। हम फाइनैंशल डिटेल्स के बारे में कोई कमेंट नहीं कर सकते।

Updated : 2017-04-28T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top