Top
Home > Archived > ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट के आदेश पर विजय माल्या लंदन में हुए गिरफ्तार

ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट के आदेश पर विजय माल्या लंदन में हुए गिरफ्तार

ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट के आदेश पर विजय माल्या लंदन में हुए गिरफ्तार

9000 करोड़ रुपये के लोन डिफॉल्टर विजय माल्या को लंदन में गिरफ्तार कर लिया गया है। ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट के आदेश पर यह गिरफ्तारी हुई है। उनकी गिरफ्तारी के बाद अब भारत लाए जाने की कार्यवाही शुरू होगी।
स्काटलैंड यार्ड के अनुसार, भगोड़ा अपराधी घोषित उद्योगपति विजय माल्या को प्रत्यर्पण वारंट पर गिरफ्तार किया गया है।

भारत में सीबीआई ने भी माल्या के गिरफ्तारी पुष्टि की है। उसकी आज लंदन की कोर्ट में पेशी होगी। 17 बैंकों का 9000 करोड़ रुपये का लोन विजय माल्या के ऊपर है। इस बीच केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने कहा है कि किसी को भी छोड़ा नहीं जाएगा। कानून अपना काम करेगा।

विजय माल्या का प्रत्यर्पण अनुरोध 8 फरवरी को भारत ने ब्रिटेन को सौंपा था
भारत और ब्रिटेन के बीच प्रत्यर्पण संधि के अनुसार माल्या के संबंध में औपचारिक प्रत्यर्पण अनुरोध आठ फरवरी को ब्रिटिश उच्चायोग को सौंपा गया था। अनुरोध सौंपते हुए भारत ने कहा था कि उसका माल्या के खिलाफ वैध मामला है। भारत ने कहा कि अगर प्रत्यर्पण अनुरोध को स्वीकार किया जाता है तो यह हमारी चिंताओं के प्रति ब्रिटेन की संवेदनशीलता को दिखाएगा।

प्रत्यर्पण प्रक्रिया में न्यायाधीश द्वारा गिरफ्तारी वारंट जारी करने पर फैसले सहित कई कदम शामिल हैं। वारंट जारी होने पर व्यक्ति को गिरफ्तार करके शुरुआती सुनवाई के लिए अदालत के सामने लाया जाता है जिसके बाद मंत्री द्वारा अंतिम फैसले से पहले प्रत्यर्पण सुनवाई होती है। वांछित व्यक्ति को किसी भी फैसले के खिलाफ उच्चतम न्यायालय तक में अपील करने का अधिकार होता है। इससे पहले इस साल जनवरी में सीबीआई की एक अदालत ने 720 करोड़ रुपये के आईडीबीआई बैंक ऋण चूक मामले में माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था। माल्या दो मार्च 2016 को देश छोड़कर भाग गया था।

Updated : 2017-04-18T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top