Top
Home > Archived > अभी तक पूरा नहीं हुआ ग्वालियर-शिवपुरी मार्ग, टोल वसूलने की तैयारी

अभी तक पूरा नहीं हुआ ग्वालियर-शिवपुरी मार्ग, टोल वसूलने की तैयारी

अभी तक पूरा नहीं हुआ ग्वालियर-शिवपुरी मार्ग, टोल वसूलने की तैयारी

ग्वालियर। ग्वालियर को स्मार्ट सिटी की सौगात तो मिल गई लेकिन ग्वालियर से शिवपुरी तक बीओटी के आधार पर बनने वाली फोरवे लेन का काम आज दो वर्ष से ज्यादा बीतने के बाद भी पूरा नहीं हो सका है। इस सड़क के कई भाग में जहां निर्माण का काम पूरा नहीं हो सका है। वहीं अब सड़क निर्माण कंपनी टोल वसूलने की तैयारी कर रही है।

ग्वालियर से शिवपुरी की तरफ जाने वाला मार्ग नयागांव के पास से फोर वे लेन का बनने लगा है। इस मार्ग को एस्सल ग्रुप की पेन इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बना रही है। इस कंपनी ने ना तो गुणवत्ता के साथ काम ही किया है। वहीं ग्वालियर से घाटीगांव तक अनेक स्थानों पर अधूरा काम छोड़ दिया है। कंपनी द्वारा तय समय सीमा 910 दिनों के पूरा होने के बाद भी आज तक नातो पुलियों पुलों ओवर ब्रिज का काम पूरा किया वहीं सड़क भी कई स्थानों पर एक ही तरफ से चल रही है। सूत्र बताते हैं कि अधूरे काम के बाद अब कंपनी टोल वस लिए आतुर है और कंपनी ने इस दिशा में पनिहार के पास काम करना भी शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं टोल वसूलने के वाले स्थान के पास भी कंपनी ने सड़क को ठीक नहीं किया है।

कंपनी की सडक की घाटीगांव तक लगभग हर दो तीन किलोमीटर पर सड़क एक तरफ चल रही है वहीं दूसरी तरफ की सडक किसी ना किसी काम के कारण बंद पड़ी है। उल्लेखनीय है कि यह मार्ग आगरा से मुंबई तक राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप में जाना जाता है। दक्षिण के लिए जाने वाले वाहन इसी मार्ग से होकर गुजरते हैं। कंपनी वैसे पूरे प्रोजेक्ट पर लगभग 1055 करोड रुपये खर्च करेगी वहीं इसे वह टोल के रूप में दो स्थानों से वसूल करेगी। सूत्र बताते हैं कि कंपनी को 16 मई 2013 को काम के लिए नियुक्त किया गया था। उसे 910 दिनों में 11 नवंबर 2015 तक पूरा काम करना था, लेकिन अप्रैल 2017 तक कंपनी ने काम पूरा नहीं कर पाया है। क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि कंपनी या तो काम छोड़ कर भाग गई है या वह काम ही नहीं करना चाहती तभी तो एक वर्ष से पुलियों तक का काम अधूरा ही पड़ा है। वहां से निकलने वाले वाहन चालक भी धूल धूप से परेशान होकर कंपनी सहित सरकार की निंदा करने से नहीं चूकते हैं। वहीं आधे-अधूरे कामों के चलते इस सडक पर दुर्घटनाओं की संख्या भी बढ़ी है। क्योंकि एक ही मार्ग पर दोनों तरफ का यातायात चलता है।

Updated : 2017-04-13T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top