Latest News
Home > Archived > भारत की बड़ी कूटनीतिक सफलता

भारत की बड़ी कूटनीतिक सफलता

भारत की बड़ी कूटनीतिक सफलता
X


भारत के मोस्ट वांटेड क्रिमिनल दाऊद इब्राहिम की यूनाइटेड अरब अमीरात स्थित 15,000 करोड़ की संपत्ति को जब्त कर लिया गया है। इस घटनाक्रम को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की विदेशनीति की बहुत बड़ी उपलब्धि कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं कहा जाना चाहिए, ऐसा इस लिए क्योंकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले वर्ष की अपनी यूएई यात्रा के दौरान वहां की सरकार को दाऊद इब्राहिम की संपत्ति का पूरा ब्यौरा देकर इस पर अपनी कड़ी आपत्ति व्यक्त की थी। उसके बाद से यूएई सरकार ने इस आपत्ति को न केवल बेहद गम्भीरता से लिया था बल्कि भारत के इस दुश्मन नंबर एक की अवैध संपत्ति की जांच भी शुरु कर दी थी। इस सम्पूर्ण घटनाक्रम में जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कूटनीति महत्वपूर्ण रही है वहीं भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की भी इसमें प्रमुख भूमिका मानी जा रही है। उन्हीं की कूटनीतिक चालों और साहस भरे कदमों के कारण पूरी दुनिया में भारत का दबदबा लगातार बढ़ रहा है।

म्यांमार में भारतीय सुरक्षाबलों की वहां घुसकर की गई कार्यवाही हो या फिर पाकिस्तान के खिलाफ सर्जीकल स्ट्राइक का निर्णय हो अथवा चीन जैसे खतरनाक पड़ोसी के खिलाफ कूटनीतिक दांव हो अजीत डोभाल पूरी तरह सफल रहे हैं। यूएई द्वारा दाऊद की संपत्ति पर की गई कार्यवाही भी इसी ओर इंगित करती है, यह इस दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि आगामी 26 जनवरी को अबूधाबी के राजकुमार शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहान भारत के मुख्य आयोजन के मुख्य अतिथि होंगे। संभव है उनकी भारत यात्रा के दौरान दाऊद से जुड़ा विषय चर्चा में आए। वैसे दाऊद के पाकिस्तान में होने की बात कही जाती है।

समय-समय पर भारत इस बात के प्रमाण भी देता रहा है कि दाऊद कराची में किस स्थान पर अपना ठिकाना बनाए हुए है। इस बात के भी साक्ष्य सामने आए हंै कि दाऊद पाकिस्तानी सेना के संरक्षण में रह रहा है। यह ठीक उसी प्रकार है जैसे कि दुनिया के मोस्ट वांटेड आतंकी ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान ने अपने सैन्य क्षेत्र एबटाबाद में छुपने की छूट दे रखी थी। जिस प्रकार ओसामा बिन लादेन अमेरिका के लिए सिरदर्द बना हुआ था उसी प्रकार दाऊद भारत के लिए पिछले दो दशक से भी अधिक समय से सिरदर्द बना हुआ है। 1993 के मुंबई बम विस्फोट में भी दाऊद का हाथ था। इतना ही नहीं भारत में नकली करेंसी, ड्रग्स, अवैध हथियारों की आपूर्ति भी दाऊद अपने गुर्गों के माध्यम से कराता रहा है। सबसे ज्यादा चिंता का विषय तो यह है कि दाऊद पाकिस्तान के इशारे पर भारत में तबाही मचाने, आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने का काम करता रहा है। दाऊद ने दुबई, यूएई सहित दुनिया के तमाम देशों में डी कंपनी के नाम से अपना अवैध कारोबार फैला रखा है। इन स्थानों पर उसके होटल व अन्य सम्पत्तियां हैं जहां से वह लगातार भारत विरोधी गतिविधियां चलाता रहा है।

जिस समय मोदी सरकार सत्ता में आई उसके बाद से भारत के सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत के इस दुश्मन नंबर एक पर शिकंजा कसने और पाकिस्तान के सहयोग से भारत में संचालित उसकी आतंकी गतिविधियों को पूरी दुनिया के सामने बेनकाब किया। इतना ही नहीं इस पर लगाम लगाने के लिए दबाव भी बनाया। इसी का परिणाम है कि यूएई में उसके खिलाफ इतनी बड़ी कार्यवाही होने जा रही है।

अन्य ख़बरे....

साइकिल का पहिया गिरने से बदल गई कहानी

मंदिरों की सुरक्षा पर रहेगी पुलिस की निगाह

Updated : 2017-01-07T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top