Top
Home > Archived > दीक्षांत समारोह में युवाओं को मिली राष्ट्रीय अस्मिता की प्रशस्ति

दीक्षांत समारोह में युवाओं को मिली राष्ट्रीय अस्मिता की प्रशस्ति

रंगारंग समारोह के साथ सम्पन्न डीईआई का 35 वां दीक्षांत समारोह
2591 छात्रों को मिलीं उपाधियां

आगरा। दयालबाग शिक्षण संस्थान के दीक्षांत सभागार में गुरूवार को 35वां दीक्षान्त समारोह अत्यन्त गौरवमयी ढंग से सम्पन्न हुआ। समारोह में 2591 छात्र-छात्राओं को वर्ष 2016 में विभिन्न परीक्षाओं में सफलता के लिए उपाधियाँ प्रदान की गयी। एमफिल में 63,स्नातकोत्तर में 398, स्नातक 584, स्नातक ऑनर्स 638, पीजी डिप्लोमा 82, सर्टिफिकेट (हाईस्कूल-195, इण्टरमीडिएट-216), डिप्लोमा 414 व 78 छात्र-छात्राओं को संस्थान के अध्यक्ष ने डायरेक्टर मेडल प्रदान किये। साथ ही दो प्रेसीडेन्ट मेडल दिया गया और 71 छात्र-छात्राओं को विभिन्न विषयों में पीएचडी उपाधि से सम्मानित किया गया।
समारोह के मुख्य अतिथि सचिव, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय भारत सरकार के रोहित नन्दन उपस्थित हुए। संस्थान निदेशक प्रो. प्रेम कुमार कालरा ने समारोह की अध्यक्षता की और संस्थान की प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की। मुख्य अतिथि श्रीनन्दन ने अपने उदबोधन में कौशल विकास एवं उद्यमिता की ओर क्रांतिकारी परिवर्तन में पारम्परिक शिक्षा एवं कौशल विकास के पारस्परिक सम्बन्ध एवं समन्वय की अपार सम्भावनाओं एवं उपयोगिता पर प्रकाश डाला। समारोह में डीईआई का वर्ष-2016 ‘डिस्टिंगुइस्ट एल्युम्नाई अवार्ड प्रो0 प्रेम कुमार कालरा, आईआईटी दिल्ली को प्रदान किया गया। पिछले सत्र में सभी स्नातकीय स्तर परीक्षाओं में सर्वोत्तम स्थान प्राप्त करने वाली वेदिका सक्सैना तथा सभी स्नातकोतरीय परीक्षाओं में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाली रोमा पाठक को प्रोसीडेन्ट मेडल प्रदान किया गया। पिछले सत्र में सर्वोत्तम विद्यार्थी का गौरव प्राप्त करने वाले छात्र शब्दरूप सतसंगी को संस्थान के ‘फाउन्डर्स मेडल‘ से सुशोभित किया गया। आभार प्रो. प्रेम कुमार कालरा ने व्यक्त किया।

Updated : 2017-01-13T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top