Top
Home > Archived > बलूचिस्तान में पाक ने नहीं रोके अत्याचार तो लगेगा बैन: यूरोपियन यूनियन

बलूचिस्तान में पाक ने नहीं रोके अत्याचार तो लगेगा बैन: यूरोपियन यूनियन

बलूचिस्तान में पाक ने नहीं रोके अत्याचार तो लगेगा बैन: यूरोपियन यूनियन


नई दिल्ली| आतंक को खुला समर्थन देने वाला पाकिस्तान बलूचिस्तान प्रांत में मानवाधिकार हनन के मसले पर बुरी तरह से घिर गया है। इस मामले में भारत के खुलकर बलोचों का समर्थन करने के बाद यूरोपीय संघ ने पाकिस्तान को कड़ी फटकार लगाई है। यूरोपीय यूनियन ने दो टूक शब्दों में साफ कह दिया है कि अगर पाकिस्तान को यूरोपीय देशों के साथ समझौते करने हैं तो उसे बलूचिस्तान को लेकर अपनी नीति बदलनी होगी। यूरोपियन ने कहा कि बलूचिस्तान में जो कुछ हो रहा है उसे पाकिस्तान का आंतरिक मामला नहीं माना जा सकता है।

यूरोपियन यूनियन का यह बयान तब आया जब बलोच नेता ब्रह्मदाग बुगती और तारेक फतेह ने यूरोपियन पार्लियामेंट के वाइस प्रेसिडेंट रेजार्ड जारनेकी से स्विटजरलैंड में मुलाकात की।

जारनेकी के मुताबिक यह पाकिस्तान का आंतरिक मामला नहीं है। हमारे पाकिस्तान के साथ हर तरह के समझौते है। अगर पाकिस्तान ने अपनी नीति बदली बलोचिस्तान के लिए तो हम अपना नजरिया बदलेंगे। कुछ करने का यही सही समय है।

जेनेवा में प्रदर्शनकारी बलोचों के दमन को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने बलूचिस्तान में मारे गए अपने नेताओं को श्रद्धांजलि भी दी है। इन सभी घटनाओं पर करीबी नजर रखने वाले जारनेकी ने कहा कि यह समय बयानबाजी का नहीं बल्कि कार्रवाई करने का है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ उनके द्विपक्षीय आर्थिक और राजनीतिक संबंध है।


अगर पाकिस्तान बलूचिस्तान के प्रति अपनी नीति में बदलाव नहीं करता है तो हम पाक और वहां की सरकार के प्रति अपना नजरिया बदलने पर मजबूर हो जाएंगे। जारनेकी ने कहा कि पाकिस्तान दोहरा रवैया अपना रहा है। एक तरफ वह दुनिया को अपना साफ-सुथरा चेहरा दिखाता है तो दूसरी तरफ वह मानवाधिकार हनन में लिप्त है।

बलोच नेता ब्रह्मदाग बुगती को भारत में शरण देने के मुद्दे पर पाकिस्तान भड़क गया है। ब्रह्मदाग बुगती ने भारत से संरक्षण मांगा है जबकि पाकिस्तान ने उन्हें मोस्ट वॉन्टेड की लिस्ट में रख रखा है।

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा है कि अगर भारत ने ब्रह्मदाग बुगती को शरण दी तो उसे आतंकवाद समर्थक देश माना जाएगा। ख्वाजा आसिफ ने चेतावनी देने वाला ट्वीट किया है कि भारत का ब्रह्मदाग बुगती को शरण देना आतंकवाद को बढ़ावा देने जैसा है।

Updated : 2016-09-24T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top