Home > Archived > उत्तर प्रदेश में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हुई: मोदी

उत्तर प्रदेश में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हुई: मोदी

उत्तर प्रदेश में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हुई: मोदी
X

उत्तर प्रदेश में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हुई: मोदी

गोरखपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में नए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की आधारशिला रखी और उर्वरक संयंत्र का पुनरुद्धार किया। इसके बाद एक रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हो गई है। 26 साल बाद यहां कारखाना फिर शुरू होगा और इसका श्रेय यहां की जनता को जाता है।

उन्होंने कहा, 'आपने मुझे उत्तर प्रदेश से चुनकर नहीं भेजा होता और भाजपा के नेताओं को न जिताया होता तो अभी भी यह कारखाना बंद पड़ा होता। आप लोगों ने काम करने वाली सरकार बनाई है इसलिए यह काम हो रहा है'। उन्होंने कहा कि यहां 1000 करोड़ रुपये की लागत से 700 बिस्तरों वाला एम्स अस्पताल बनेगा। यहां इलाज के अभाव में बच्चों की मौत हो जाती है लेकिन हम पूर्वांचल के बच्चों को मरने नहीं देंगे।

राज्य की सत्तारूढ़ समाजवादी सरकार पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, सिर्फ विकासवाद से उत्तर प्रदेश का भला संभव है। परिवारवाद, जातिवाद के जहर से राज्य का भला नहीं होगा। आपने दिल्ली में ऐसी सरकार बनाई जो दौड़ रही है, लखनऊ में भी ऐसी सरकार बनाइए जो आपके लिए दौड़े। मैं सीढियां भी तेज चढ़ता हूं '।

अपने भाषण की शुरुआत भोजपुरी की चंद लाइनों से करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जनता से किए गए वादों को पूरे करने के लिए वह यहां आएं हैं। पूर्वी भारत के किसानों के साथ अन्याय हुआ है। देश के कारखाने बंद थे, बाहर से खाद मंगाई जाती थी। यूरिया किसानों को नहीं मिलता था। केमिकल फैक्ट्री वालों को सब्सिडी मिलती थी। उन्होंने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने यूरिया की कालाबाजारी रोकी। अब बंद पड़े कारखाने फिर शुरू होंगे।

उन्होंने कहा कि पूर्वी और पश्चिमी भारत विकास के दो पहिए हैं। पश्चिमी के साथ पूर्वी छोर भी मजबूत होगा। पूर्वी उत्तर प्रदेश में जल्द ही तीसरी हरित क्रांति होगी। मौजूदा केंद्र सरकार को किसानों की भलाई की चिंता है। कुछ लोग सरकार की आलोचना के लिए तैयार रहते हैं, लेकिन उन्हें किसानों की चिंता नहीं होती। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पहले गन्ना किसानों का हजारों करोड़ का बकाया था लेकिन अब सिर्फ 170 करोड़ रुपये ही बकाया है। गन्ना किसानों का 93 फीसदी भुगतान हो चुका है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था गैस आधारित होगी। गैस से यूरिया बनाने का खर्चा कम होगा। गोरखपुर के हर घर में पाइपलाइन से गैस पहुंचेगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बजट में राज्य सरकार को सात हजार करोड़ रुपये दिए लेकिन पैसे देने के बावजूद काम अटका हुआ है। केंद्र सरकार ने सोनौली से गोरखपुर नेशनल हाइवे के लिए 570 करोड़, गोरखपुर-वाराणसी 650 करोड़ रुपये दिए हैं। उत्तर प्रदेश के 1529 गांवों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य था और अब सिर्फ 175 गांवों में बिजली पहुंचाना बाकी।

Updated : 2016-07-22T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top