Top
Home > Archived > दे- दे ताली, कर रहे जेब खाली

दे- दे ताली, कर रहे जेब खाली

*चलती ट्रेन में नकली किन्नरों का आतंक
*यात्रियों से अवैध वसूली
*पैसे नहीं देने पर करते हैं अभद्रता

प्रशांत शर्मा/ग्वालियर। चलती रेलगाडिय़ों में चोर- लुटेरे और बदमाशों से परेशान लोगों की नाक में दम अब नकली किन्नर भी करने लगे हैं। ये लोग गाडिय़ों में किन्नरों की वेशभूषा में तालियां बजा-बजाकर लोगों से पैसे मांगते हैं और न देने पर अभद्रता करते हैं।

बताया जाता है कि किन्नरो की वेशभूषा में ये लोग आउटर सिग्नल से गाडिय़ों में चढऩे के बाद यात्रियों से अवैध रूप से पैसे की वसूली करते हैं। ऐसे में ट्रेन से सफर करना यात्रियों के लिए बेहद मुश्किल भरा साबित हो रहा है। हालांकि इसे लेकर पिछले दिनों एक यात्री द्वारा झांसी में डीआरएम से शिकायत की गई तो इसके बाद कुछ दिनों तक इनके खिलाफ अभियान भी चलाया गया, लेकिन इसके बाद यह मुहिम ठण्डी पड़ते ही झांसी और आगरा स्टेशन से चलनेे वाली ट्रेनों में इन नकली किन्नरों का आतंक एक बार फिर शुरू हो गया।

सामान्य डिब्बे होते हैं निशाने पर

आमतौर पर आरक्षित डिब्बों में किन्नरों की उपस्थिति नहीं दिखती है,लेकिन इन डिब्बों में यात्रियों की संख्या कम व टीटीई की उपस्थिति रहने से सुरक्षा बल के हाथों पकड़े जाने का डर रहता है। ऐसे में वह गाडिय़ों के सामान्य डिब्बों को निशाना बनाकर सफर करने वाले यात्रियों को परेशान करते हैं। इन डिब्बों में बड़ी संख्या में यात्रियों की उपस्थिति रहने से किन्नरों को वसूली में आसानी होती है।

मना करने पर अभद्रता
रेलगाडिय़ों में किन्नरों द्वारा पैसे मांगने पर कई यात्री उनसे बचने के चक्कर में पैसे देते हैं। लेकिन यदि कोई इन्हें पैसे नहीं देता तो यह उन यात्रियों के साथ अभद्र व्यवहार भी करते हैं। इस परिस्थिति में परिवार के सामने शर्मिंदा होने के बजाय यात्री उन्हें पैसे देना ही उचित समझता है।

यात्रियों को परेशान करते हैं
सप्ताह के अंत में ट्रेनों में यात्रियों की संख्या बढ़ जाती है। परिवार के साथ कई लोग इन दिनों यात्रा करते हैं। इसी का फायदा उठाकर किन्नर भी सक्रिय हो जाते हैं और स्टेशन पर पकड़े जाने के डर से आउटर पर गाड़ी खड़ी रहने पर उसमें सवार हो जाते हैं। इसके बाद ताली बजा-बजा कर तथा अन्य तरह से नौटंकी कर यात्रियों से पैसों की मांग करते हैं। डरे-सहमे यात्रियों को मजबूरन

इन्हें पैसे देने पड़ते हैं।
''पिछले कई दिनों से नकली किन्नरों को पकडऩे का अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें हमने 5 से 6 लोगों को पकड़ा भी है, यह अभियान आगे भी जारी रहेगा।''
त्रिपुरेश अग्निहोत्री
थानाप्रभारी,आरपीएफ

Updated : 2016-03-10T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top